Breaking News
April 18, 2019 - बागी नेता शकील अहमद पर कांग्रेस बड़ी करवाई कर सकती है
April 18, 2019 - एक बार फिर बिहार में गरजेंगे मोदी, फारबिसगंज में इस दिन होगी उनकी सभा
April 18, 2019 - अली अशरफ ने मधुबनी से बसपा टिकट पर नामांकन दाखिल किया
April 18, 2019 - मायावती ने चुनाव आयोग पे उन्हें दलितों से दूर करने का आरोप लगाया
April 18, 2019 - राहुल ने मोदी सरनेम वालों को कहा था चोर, सुशील मोदी ने बिहार अदालत में दर्ज किया केस
April 18, 2019 - जिद पे अरे है तेजप्रताप, आज शिवहर में करेंगे रोड शो
April 18, 2019 - तेजस्वी यादव ने पीएम मोदी के पिछड़े वाले बयान पे किया पलटवार
April 18, 2019 - तारिक अनवर इस बार नहीं कर सके वोट, ये थी वजह
April 17, 2019 - तेजस्वी यादव ने सुशील मोदी के खुलासे पे किया पलटवार
April 17, 2019 - कन्हैया का रामदिरी के लोगों ने जमकर विरोध किया

बिहार की सबसे हॉट सीट बनी है बांका लोकसभा क्षेत्र

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

चंदन गुप्ता : आगामी 18 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के अंतर्गत बांका लोकसभा में मतदान होना है, इसे लेकर सभी दलों के नेताओं द्वारा अपने अपने क्षेत्रों में समर्थकों और कार्यकर्ताओं के साथ पूरे जोर शोर से चूनाव जीतने की तैयारी की जा रही है. लेकिन इस बार बांका पर सभी दलों के प्रमुख नेताओं की विशेष नजर है. आपको बता दें इस बार बांका लोकसभा का चुनाव त्रिकोणीय होने के आसार दिख रहे हैं.

एक तरफ जहां निवर्तमान राजद के सांसद जयप्रकाश नारायण यादव राजद प्रत्याशी के तौर पर बांका से चुनाव लड़ रहे हैं,और उन्हें अपने समर्थकों, कार्यकर्ताओं और जनता पर भरोसा है, कि क्षेत्र की जनता पिछले 5 वर्षों में उनके द्वारा किए विकास कार्यों के आधार पर मतदान कर एक बार फिर विजयी बनायेंगे। राजद प्रत्याशी अपने महागठबंधन के साथ साथ राष्ट्रीय जनता दल के पारंपरिक वोट बैंक और विकास कार्यों के आधार पर वोट मांग रहे हैं.

दूसरी ओर बेलहर के विधायक और एनडीए के जदयू प्रत्याशी गिरधारी यादव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार के विकास कार्यों के नाम पर जनता से वोट मांग रहे हैं.
गिरधारी यादव एवं भाजपा- जदयू के समर्थकों और कार्यकर्ताओं को भरोसा है, कि बांका लोकसभा की जनता उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर जीत दिलाएगी.

लेकिन सबसे दिलचस्प बात यह है, कि इस बार यहां से बांका लोकसभा के पूर्व सासंद और बिहार भाजपा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष पुतुल सिंह बागी रुख अपनाकर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चूनावी मैदान में है, ओर अपने विकास कार्यों ,स्वर्गीय दिग्विजय सिंह एवं बांका के सम्मान के नाम पर वोट मांग रही हैं.
ये स्वयं एवं इनकी बेटी अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज एवं कॉमन वेल्थ स्वर्ण पदक विजेता श्रेयसी सिंह भी अपनी माँ के साथ पुरे जोर शोर से चूनाव प्रचार कर पुतुल सिंह को जिताने का प्रयास कर रही है.

अब देखना होगा,आगामी 18 अप्रैल को जनता किस प्रत्याशी के पक्ष में सर्वाधिक मतदान करती है ,जहां तक चुनाव प्रचार एवं रैलियों की बात है, तो एनडीए की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ,गृह मंत्री राजनाथ सिंह, कैबिनेट मंत्री रामविलास पासवान, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी आदि प्रमुख एनडीए के नेताओं ने जिले भर के अनेक क्षेत्रों में अपने प्रत्याशी गिरधारी यादव के लिए जमकर प्रचार प्रसार किया, वहीं दूसरी तरफ राजद के प्रत्याशी और निवर्तमान सांसद जयप्रकाश नारायण यादव के पक्ष में महागठबंधन नेताओं के रूप में बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा आदि प्रमुख नेताओं ने अलग अलग क्षेत्रों में अपने प्रत्याशी के लिए प्रचार प्रसार किया.

आपको बता दें, कि बांका जिला भाजपा के बहुत से सदस्य पार्टी से इस्तीफा देकर निर्दलीय प्रत्याशी पुतुल सिंह के पक्ष में जोर शोर से प्रचार कर रहे हैं. इनका कहना है, कि बांका लोकसभा सीट से एनडीए की टिकट की वास्तविक हकदार पुतुल सिंह ही थी. लेकिन जब उन्हें टिकट नहीं मिला, तो ये लोग खुले तौर पर निर्दलीय प्रत्याशी पुतुल सिंह के पक्ष में प्रचार प्रसार कर रहे हैं.

अब देखना है बांका लोकसभा की जनता किस प्रत्याशी को अपना आशीर्वाद देती है, और कौन बांका का सांसद बनकर 2019 के लोकसभा के पटल में बांका का नेतृत्व करता है.

आपको बता दें 16 अप्रैल को चुनाव प्रचार का अंतिम दिन है, अंतिम दिन सारे प्रत्याशियों अपनी पूरी जोर-शोर से खुद को जनता के बीच एक बेहतर नेता दिखाने की होड़ में झोंक चुके हैं. सभी प्रत्याशियों के द्वारा रोड शो, रैलियां, जनसमर्थन का प्रयास जोरदार तरीके से चल रहा है. बांका लोकसभा क्षेत्र में चुनाव परिणाम हमेशा चौकानें वाला रहता है.

बांका संसदीय क्षेत्र का सियासी पारा पूरे उफान पर है.
लिहाजा प्रत्याशियों की वास्तविक स्थिति को लेकर राजनीति के जानकारों के समक्ष भी संशय की स्थिति बनी हुई है. आने वाले दिनों में बांका लोकसभा क्षेत्र की चुनावी सियासत का दृश्य बदल भी सकता है. या फिर वर्तमान स्थिति ही कायम रहेगी. यह जानने के लिए कि हमें 23 मई तक इंतजार करना होगा.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

About author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *