Breaking News
July 17, 2019 - अब मुखिया जी हुए पावरफुल, वाटर मैनेजमेंट के लिए मिले कई अधिकार
July 17, 2019 - इन 18 एजेंडों पर बिहार कैबिनेट में लगी मुहर
July 17, 2019 - बीजेपी खुलकर कर रहा आरएसएस का गुणगान, निखिल आनंद ने दिया ये बयान
July 17, 2019 - अब देश भर में बांधों की सुरक्षा के लिए बनेगा नया कानून
July 17, 2019 - सुशील मोदी का पलटवार, तब लालटेन पार्टी ने नाव से बाढ़ सर्वे का सुझाव क्यों नहीं दिया था
July 17, 2019 - राबड़ी देवी बोली, गठबंधन के दोनों दलों में विश्वास की कमी शुरू से ही रही
July 17, 2019 - सच्चिदानंद राय बोले, नीतीश की नीयत में शुरु से ही है खोट
July 17, 2019 - राबड़ी देवी ने नीतीश कुमार पर सही जानकारी नहीं देने का लगाया आरोप
July 17, 2019 - RSS समेत 19 हिंदू संगठनों की जानकारी जुटा रही नीतीश सरकार, बीजेपी गंभीर
July 17, 2019 - बाढ़ से पीड़ित परिवारों को छः हजार रूपये की मदद देगी नीतीश सरकार

मायावती ने चुनाव आयोग पे उन्हें दलितों से दूर करने का आरोप लगाया

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

लोकसभा चुनाव 2019 में आदर्श आचार संहिता का उल्‍लंघन करने वाली बायानबाजियों के खिलाफ चुनाव आयोग ने बड़ा और कड़ा कदम उठाया था और चुनाव आयोग ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर 72 घंटे और बसपा सुप्रीमो मायावती पर 48 घंटे के लिए रोक लगा दिया था. इसके फलस्वरूप यूपी के यह दो बड़े नेता अपने दल के लिए प्रतिबंध के दौरान चुनाव प्रचार नहीं कर सकते थे. चुनावे प्रचार पर आयोग द्वारा लगाए गए प्रतिबंध को लेकर मायावती ने जमकर भड़ास निकाली.

बसपा सुप्रीमो मायावती ने एक बार फिर से चुनाव आयोग पर जमकर निशाना साधा. मायावती गुरुवार को बिहार के गोपालगंज में चुनावी जनसभा को संबोधित करने पहुंची थीं. यहां उनके निशाने पर सरकार के साथ-साथ चुनाव आयोग भी रहा. उनका कहना था कि आगामी चरण में जहां चुनाव होना है वो दलितों का क्षेत्र है. लेकिन चुनाव आयोग ने दलितों से दूर रखने के लिए मेरे ऊपर जानकर प्रतिबन्ध लगाया है.

दरअसल, मायावती शहर के वीएम मैदान में बसपा प्रत्याशी के समर्थन में चुनाव प्रचार के लिए सभा कर रही थी. वहीं पर मायावती ने कहा कि उन्हें दलितों के चुनाव प्रचार से जबर्दस्ती रोका गया. उन्होंने आगे कहा कि चुनाव आयोग को इसका सही जवाब देना होगा जो कि बिहार में अपनी पार्टी की ज्यादा से ज्यादा सीटें जीताने से ही मिलेगा.

सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि मायावती ने केंद्र सरकार और चुनाव आयोग पर आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार ने अपनी खामियों को छिपाने के लिए और लोगों का ध्यान भटकाने के लिए धार्मिक भावनाएं भड़का रही है. सरकार अपने देश की सेना का किसी न किसी रूप में गलत इस्तेमाल कर रही है, लेकिन फिर भी चुनाव आयोग इस मामले में अभी भी चुप्पी साधे हुए है.

इसके साथ ही मायावती ने भाजपा और कांग्रेस सरकार पर भी निशाना साधा और आरोप लगाते हुए कहा कि प्राइवेट सेक्टर में दलितों को गरीबो को कोई आरक्षण नहीं दिया गया. जबकि मोदी सरकार पूंजीपतिओं को और भी धनवान बनाने में लगी हुई है. मायवती ने जनसभा को संबोधित करते हुए अपनी गठबंधन की सरकार बनाने की अपील की. इसके साथ ही मायावती ने कहा कि महिलायेें अपने घर के सदस्यों को तभी जलपान कराये जब वे मतदान करने के बाद घर वापस लौटें.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

About author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *