Breaking News
August 26, 2019 - पी.चिदंबरम को मिल झटका, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज किया अंतरिम जमानत याचिका
August 26, 2019 - तेजस्वी यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने को लेकर राजद में विवाद
August 25, 2019 - प्रियंका गांधी ने कश्मीर को लेकर केन्द्र पर बोला हमला, कहा ‘लोगों को चुप कराना राष्ट्रविरोधी’
August 25, 2019 - तेजस्वी यादव बोले सिर्फ लालू परिवार ही भ्रष्टाचारी नहीं, आरसीपी सिंह पर जांच की रखी मांग
August 25, 2019 - BPSSC में 2446 पदों के लिये एजुकेशन क्वालीफिकेशन में बदलाव
August 25, 2019 - BPSSC में 2446 पदों के लिये एजुकेशन क्वालीफिकेशन में बदलाव
August 25, 2019 - अनंत सिंह ने जेल का खाना खाने से किया इंकार, मांगी विशेष सुविधा
August 25, 2019 - कोर्ट में पेशी के बाद पटना के बेऊर जेल भेजे गए अनंत सिंह
August 25, 2019 - तेजस्वी के कमबैक को झटका, शिवानंद तिवारी-भाई वीरेंद्र ने बनाई दूरी
August 25, 2019 - अरुण जेटली को लेकर लालू यादव ने बताई दिल की बात

राजद को अब बस नीतीश कुमार से उम्मीद, अब कहा, ‘उनमें PM बनने की क्षमता, करें विपक्ष का नेतृत्व’

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

बिहार में लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद आरजेडी की स्थिति बहुत ही खराब दिख रही है. साथ ही राजद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव लंबे समय से सक्रिय राजनीति से लापता हैं. हालांकि आरजेडी नेता इस पर कह नहीं रहे लेकिन, आरजेडी नेताओं के बयानों से ऐसा लग रहा है मानों अब बस किसी चमत्कार की उम्मीद लगाए बैठे हों और सारी उम्मीदें उन्हें अब बस सीएम नीतीश कुमार से रह गई है क्योंकि विपक्ष बार बार नीतीश कुमार को महागठबंधन में आने का न्योता दे रहा है.

सबसे पहले तो आरजेडी के नेता शिवचंद्र राम ने कहा है कि नीतीश कुमार को बीजेपी को लात मारकर गरीबों, दलितों, शोषितों के साथ आना चाहिए. वहीं, अब शिवानंद तिवारी भी नीतीश कुमार की तारीफ करते हुए कहा कि नीतीश कुमार में प्रधानमंत्री बनने के गुण हैं. शिवानंद तिवारी ने कहा, ‘नीतीश कुमार ऐतिहासिक भूल कर रहे हैं. वो पीएम बनने की क्षमता रखते हैं. मैं खुद नीतीश कुमार की राजनीति को पिछले 30 सालों से देख रहा हूं. उन्हें बीजेपी छोड़ विपक्ष का नेतृत्व करना चाहिए. विपक्ष में अभी पूरे देश में है नेतृत्व की शून्यता है. नीतीश कुमार के आसपास रहनेवाले लोग बीजेपी के दलाल हैं. आसपास के लोग नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री तक सीमित रखना चाहते हैं.’

गौरतलब है कि शिवानंद तिवारी आरजेडी के वरिष्ठ नेता हैं और ऐसे में उनका ये बयान कई मायनों में अहम माना जा रहा है. सिर्फ शिवानंद तिवारी या आरजेडी नहीं बल्कि कांग्रेस के भी तेवर नीतीश कुमार को लेकर नरम हो गए हैं. वहीं, अगर हम जेडीयू की बात करें, तो बिहार में एक ऐसा ध्रुव बन चुकी है, जिसके बिना किसी भी दल का सत्ता में आना मुमकिन नहीं लगता है. 2015 में जदयू ने आरजेडी का साथ दिया था, तो पार्टी 10 सालों के बाद सत्ता में लौट पाई थी, लेकिन दो साल के अंतर पर ही गठबंधन टूट गया और जेडीयू ने बीजेपी के साथ हाथ मिलाया और फिर से दोनों सत्ता में आ गए.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

About author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *