Input your search keywords and press Enter.

रामगढ़वा में पारित हुआ अविश्वास प्रस्ताव, प्रखंड प्रमुख रीता देवी की कुर्सी गयी

डीबीएन न्यूज/मोतिहारी {मधुरेश}

प्रखंड पंचायत समिति के गठन के दो वर्ष पूरा होते ही पूर्वी चंपारण जिले में प्रमुख हटाओ-प्रमुख बनाओ का खेल शुरु हो गया है. इस खेल में पंचायत समिति सदस्यों की बल्ले-बल्ले है. बीते दो सप्ताह में जिले के कई प्रखंडों में प्रमुख के विरुद्ध अविश्वास का प्रस्ताव विरोधी पंचायत समिति सदस्यों द्वारा लाया जा चूका है. ताजा मामला जिले के रामगढ़वा प्रखंड का है जहां प्रखंड प्रमुख रीता देवी के विरुद्ध लगे अविश्वास प्रस्ताव पर बहस एवं मत विभाजन के लिए आज प्रखंड परिसर में पंचायत समिति की विशेष बैठक आहूत की गयी.

Loading...

प्रखंड के कुल 24 में से 15 पंचायत समिति सदस्यों ने आज की बैठक में भाग लिया. कुल 13 सदस्यों ने अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में तथा दो सदस्यों ने विपक्ष में मतदान किया. इसके कारण प्रखंड प्रमुख रीता देवी की कुर्सी चली गयी. इसकी जानकारी देते हुए बीडीओ राकेश कुमार ने बताया कि बीते 24 जुलाई को प्रखंड पंचायत समिति के 24 में से 14 सदस्यों ने रामबहादुर पांडेय के नेतृत्व में एक पत्र देकर प्रमुख के विरुद्ध अविश्वास का प्रस्ताव लाया था. इसी आलोक में आज की विशेष बैठक बुलाई गयी थी.


Widget not in any sidebars

बैठक शुरु होने के बाद एक घंटे तक बहस चली. उसके बाद मत विभाजन कराया गया. आज की विशेष बैठक की अध्यक्षता प्रखंड की उपप्रमुख प्रियंका तिवारी ने की. आज की बैठक में पंस सदस्य सुशील मिश्र, रामपुकार ठाकुर, मो.इरफान, धनीलाल साह, सईदा खातून, सिजरा खातून, राम बहादुर पांडेय, शिव कुमारी यादव, कुसुम देवी,कोशिला देवी,सुगंधी देवी एवं कलावती देवी सहित अन्य सदस्य उपस्थित थे. बैठक के दौरान सुरक्षा व्यवस्था की कमान रामगढ़वा के थानाध्यक्ष राजेश कुमार ने सशस्त्र बलों के साथ संभाल रखा था. अविश्वास प्रस्ताव की विशेष बैठक को लेकर रामगढवा प्रखंड मुख्यालय में आज काफी गहमागहमी का माहौल था. प्रखंड प्रमुख पद से रीता देवी के अपदस्थ होते ही अब यहां नये प्रमुख के चुनाव को लेकर जोड़तोड़ की राजनीति का दौर शुरु हो गया है.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.