Input your search keywords and press Enter.

इन शर्तों पर जेल से रिहा हुए अर्जित चौबे, समर्थकों ने किया भव्य स्वागत

न्यूज़ डेस्क: केन्द्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे भागलपुर हिंसा मामले में जेल में बंद बीजेपी नेता अर्जित शाश्वत समेत 8 आरोपी बुधवार को जेल से रिहा हो गए. भागलपुर कोर्ट द्वारा अर्जित शाश्वत को सोमवार को जमानत मिली थी. अर्जित को जमानतदार (बेलर) नहीं मिलने के कारण मंगलवार को बेल बांड नहीं भरा जा सका था.

इसके कारण अर्जित शाश्वत समेत सात आरोपित जेल से बाहर नहीं निकल पाए थे. अर्जित को कोर्ट ने सशर्त जमानत दी है. पीपी सत्यनारायण प्रसाद के मुताबिक 30 दिन तक अर्जित न तो नेतृत्व करेंगे और ना ही कोई जुलूस निकालेंगे. गौरतलब है कि चतुर्थ जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह प्रभारी जिला जज कुमुद रंजन सिंह की अदालत से सशर्त नियमित जमानत (रेगुुलर बेल) मिल गई थी. सभी को दस हजार का बेल बांड भरना था जिसमें एक आरोपी को दो जमानतदार की जरुरत थी लेकिन अर्जित समेत सभी आरोपियों का बेल बंद नहीं भरा जा सका था जिसके कारण मंगलवार को जेल से बाहर नहीं निकल सके. आज जेल से बाहर आने पर उनके समर्थकों ने उनका भव्य स्वागत किया और फूल-मालाओं से लाड दिया. अर्जित शास्वत ने इसके बाद सोशल मीडिया पर सक्रिय हुए. अर्जित ने फेसबुक लाईव के जरिये सभी को धन्यवाद दिया तथा न्यायालय में अपना विश्वास बताया.

Loading...

विदित हो कि 17 मार्च को बिना अनुमति भारतीय नववर्ष का जुलूस निकालने समेत अन्य आरोप अर्जित पर लगाए गए हैं. इस मामले में न्यायालय द्वारा गिरफ्तारी वारंट अर्जित शाश्वत चौबे, अभय कुमार घोष, प्रमोद वर्मा पम्मी, देव कुमार पांडेय, सुरेंद्र पाठक, अनुप लाल साह, संजय भट्ट, प्रणव साह उर्फ प्रणव दास के खिलाफ निर्गत किया था. नाथनगर कांड संख्या 176/18 में 5 अन्य नामजद आरोपियों की जगदीशपुर में गिरफ्तारी हुई थी. हालांकि बाद में राजनीतिक दवाब के चलते अर्जित ने पटना महावीर मंदिर के पास पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था. कोर्ट ने तब उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा था. हालांकि अब उन्हें जमानत मिला गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.