Input your search keywords and press Enter.

अरवल डीएम ने राष्ट्रीय कृमि दिवस पर स्वास्थ्य विभाग के साथ बैठक कर दिया ये निर्देश

डीबीएन न्यूज/अरवल {के कुमार “श्रवण”}– स्वास्थ्य विभाग द्वारा बच्चों को कृमि मुक्ति हेतु आयोजित बैठक जिला पदाधिकारी सतीश कुमार सिंह की अध्यक्षता में संपन्न की गई. जिलाधिकारी ने कहा कि 0 2 अगस्त 2018 को राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस आयोजित किया गया है. इसी कड़ी में इस जिला के 01 से 19 वर्ष के कुल 373949 बच्चों को कृमिनाशक हेतु अल्वेंडाजोल की गोली खिलाया जाना हैं.

कृमि संक्रमण से बच्चों के पोषण स्तर एवं हीमोग्लोबिन स्तर पर गहरा दुष्प्रभाव पड़ता है. जिसे बच्चों को शारीरिक एवं बोधिक विकास वाधित होती है. जिला के सभी सरकारी विद्यालय निजी विद्यालय एवं आंगनवाड़ी केंद्रों के बच्चों के अलावा हर घर के शेष बच्चों को गोली खिलाया जाना है. 01 से 02 वर्ष के बच्चों को आधा गोली तथा 02 से आगे के बच्चों को पूरा एक गोली खिलाया जाना है. यह गोली खाने के पहले या खाने के बाद भी चबा चबा कर खाना है. इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं पड़ता है. जिलाधिकारी ने कहा कि इस कार्यक्रम का क्रियान्वयन स्वास्थ्य शिक्षा विभाग एवं समेकित बाल विकास सेवाएं निदेशालय के समन्वय से किया जाना है.

Loading...

Widget not in any sidebars

प्रखंड स्तर के प्रशिक्षण में सभी सरकारी एवं निजी विद्यालय के प्रधानाध्यापक प्रभारी प्रधानाध्यापक या शिक्षक प्रतिनिधि में से कोई एक उपस्थित रहेंगे. कीट की उपलब्धता प्रशिक्षण से पूर्व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से प्राप्त कर इसका वितरण प्रशिक्षण के दिन ही कर देना है. प्रखंड स्तर पर प्रशिक्षित शिक्षक अपने विद्यालय के सभी शिक्षकों को प्रशिक्षित करना सुनिश्चित करेंगे. कार्य दिवस से पूर्व 27 से 31 अगस्त तक प्रभात फेरी अभिभावक शिक्षक बैठक विद्यालय प्रबंधक समिति की बैठक कर लेना है. तथा इसमें कृमि मुक्ति से लाभ से अवगत करा देना है.

प्रखंड स्तर पर प्रशिक्षण में सत प्रतिशत महिला पर्यवेक्षिका आंगनबाड़ी सेविका की उपस्थिति सुनिश्चित किया जाये. किट का वितरण इन लोगों को बीच कर देना है.जिलाधिकारी ने कहा कि अगले दिन तक सारा बैनर सभी स्कूल में पहुंच जाना चाहिए. प्रखंड स्तर से कीट के साथ सभी सामग्रियों का वितरण कर देना है. 21 से 31 अगस्त तक का चार्ट बनाकर तिथि वार सभी कार्य संपन्न कराने का निर्देश दिया गया. जिला के कोई भी बच्चा दवा से बचना नहीं चाहिए.

यदि पूर्व किए गए सर्वे लिस्ट के अनुसार 02 अगस्त को कोई बच्चा बच जाता है तो 13 अगस्त को उन्हें खिलाकर शत प्रतिशत उपलब्धि प्राप्त कर लेना है. इसमें आशा एवं जीविका दीदियों की भूमिका भी अहम रहेगी. बैठक में सिविल सर्जन डॉ विजय कुमार सिन्हा, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, सभी प्रभारी,चिकित्सा प्रभारी, सभी अस्पताल प्रबंधक, शिक्षा पदाधिकारी एवं सीडीपीओ उपस्थित थे.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.