Input your search keywords and press Enter.

बलान नदी बचाओ अभियान लाया रंग ,नदी में आया पानी,नदी बचाने कों लेकर चलेगा हस्ताक्षर अभियान

दलसिंहसराय(कुणाल गुप्ता)

दलसिंहसराय शहर एवं कुछ पंचायतो की जीवन रेखा बलान नदी,नदी ना रह कर नाले का रूप धारण कर रही थी शहर का सारा कचरा नदी में ही गिराया जा रहा था साथ ही गंदी पानी,मल मूत्र भी इसी में गिराये जा रहे थे.सरकार तो क्या यहाँ के प्रतिनिधि भी नदी कों मृत समझ कर इसे नजर अंदाज कर दिये थे.लेकिन शहर के कुछ समाजसेवकों ने अपने बल बूते पर नदी कों फिर से जीवित करने की ठानी और बलान नदी बचाओ अभियान शुरू कर नदी कों बचाने की मुहिम में लग गये.

जन चेतना मंच के अध्यक्ष सोहन प्रसाद की अध्यक्षता में कुछ महीने पहले नदी कों बचाने कों लेकर शहर के गोला पट्टी स्थित गोला घाट पर एक बैठक शहर के कई जनप्रतिनिधियों के मौजूदगी में की गई.बैठक में लोगों ने नदी कों बचाने के लिये हर सम्भव अपना योगदान देने की बात कहीं और उसी दिन में हर सप्ताह शहर के हर घाटों की साफ सफाई हेतु श्रम दान लोगों ने देना शुरू किया.

इस का असर यह हुआ की शहर के कई लोग इस अभियान में जुड़ते चले गये.लोगों का समर्थन देख नगर पंचायत एवं स्थानीय एसडीओ विष्णुदेव मंडल भी इस अभियान का हिस्सा बनने पहुच गये,और नदी में कूड़ा फेंकने पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया गया.क्षेत्र के विधायक आलोक कुमार मेहता ने घाटों का दौरा कर नदी किनारे बने घाटों की सुविधाओं का जायजा लिया .

Loading...

बलान नदी बचाओ अभियान के तहत जन चेतना मंच द्वारा जल संकट व जल संरक्षण के संबंध में चित्रकला प्रतियोगिता का भी आयोजन मेन बाजार स्थित एक कोचिंग संस्थान में कराया गया.जिसमे दर्जन भर स्कूलों के छात्र- छात्राओं ने हिस्सा लिया.प्रतियोगिता निर्णायक मंडली में प्रख्यात चित्रकार मो. सुलेमान, रत्नेश कुमार, महेन्द्र कुमार, रूपक कौशल, धीरज उपाध्याय, दीपक कुमार ने संयुक्त रूप से प्रतिभागियों का चयन किया.

कुछ लोगों ने इस अभियान का विरोध भी किया पर अभियान कों आगे बढ़ने से नहीं रोक पाये.बरसात के मौसम के कारण श्रम दान कों रोक दिया गया.क्षेत्र में वर्षा होने के बाबजूद भी बलान नदी में जलस्तर में कुछ ज्यादा वृद्धि नहीं हो सकी.लेकिन नदी का जलस्तर में थोड़ी सी वृध्दि हुई.शहर की स्थानीय सामाजिक संस्था नगर विकास समिति से संबधित लोगो ने आरोप लगाया कि इस समस्या को लेकर कुछ स्थानीय संगठन जोर-शोर से प्रचार प्रसार व झूठा दिखावा कर लोगो को गुमराह एवं एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप कर राजनीति में मशगूल है.

इसे साफ-साफ पता चलता है कि इस अभियान कों भी राजनीतिक साँचो में ढालने की कोशिश की जा रही है.इस पर बलान नदी बचाओ अभियान के संयोजक सोहन प्रसाद का कहना है कि बलान नदी बचाओ अभियान एक समाजिक आंदोलन है, जिसमें समाज के हर वर्ग की भागीदारी जरूरी है. अगर सभी सामाजिक व राजनीतिक लोग अपने-अपने स्तर से प्रयास करे तो हमें पूर्ण विश्वास है कि यह नदी फिर से अपने पूर्व स्थिति में आ सकती है.

अभियान के संदर्भ में उन्होंने मंगलवार कों बताया कि जल्द ही अनुमंडलवासियों द्वारा 10 हजार हस्ताक्षर करा कर बिहार सरकार कों सौंपा जायेगा.
जो अपने आप में एक रिकॉर्ड होगा किसी नदी कों बचाने कों लेकर लोगों के द्वारा किया गया समर्थन का यह अभियान आज शहर के हर घरों के आगे लगे “मैं बलान नदी बचाओ का समर्थन करता हु” लगे छोटे-छोटे पोस्टरों से पता चलता है की नदी बचाओ अभियान कों लेकर शहरवासियों में जागरूकता बढ़ी है.और अब जरूर है तो जनप्रतिनिधि द्वारा इस तरफ ध्यान देने की.

Leave a Reply

Your email address will not be published.