Input your search keywords and press Enter.

बालू का चालान अब दिन में नहीं रात में काटे जाएगें,नहीं तो बालू लदी गाड़ियों को भरना पड़ेगा जुर्माना

डीबीएन न्यूज/बिहटा(पंकज दुबे)-गुरूवार को महाजाम से निपटने के लिए पटना-भोजपुर के आला-अधिकारी बिहटा पहुंचे.पिछले तीन दिनों से बिहटा में महाजाम के कारण जनता-प्रशासन सब परेशान थे.महात्मा गाँधी सेतु पर भारी वाहनों के परिचालन पर लगे प्रतिबंध का व्यापक असर बिहटा में महाजाम पर पड़ रहा है. जो वाहन पटना होकर हाजीपुर जाती थी अब कोइलवर और बबुरा पुल के रास्ते जाने के कारण बिहटा, कोईलवर पुल और बबुरा पुल के रास्ते छपरा तक गाड़ियों की लंबी कतार देखने को मिल रही है.

इधर बिहटा से बिक्रम और पतुत के रास्ते अरवल-औरंगाबाद,बिहटा से मनेर और खगौल के रास्ते पटना को जाने वाली सड़कों पर भी भारी वाहनों की लंबी कतार होने से विकट स्थिति उत्पन्न हो गई.


Widget not in any sidebars

एक तरफ भीषणगर्मी दूसरी तरफ महाजाम से लोग जाएँ तो जाएँ कहाँ . बिहटा से जाने वाली सभी दिशाओं की सड़कों पर वाहनों का इंच-इंच कब्जा होने के चलते सभी लोग परेशान हैं. इस भीषण गर्मी में पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है.भारी वाहनों का एक हीं जगह पर खड़े होने के वजह से छोटी गाड़ियां भी नहीं निकल पा रही है जिसके चलते मरीज लिए एम्बुलेंस, स्कूली गाड़ी, दूध की गाड़ी या स्कूटी-बाइक सभी कहीं न कहीं सड़कों पर फंसे हुए रहते है.

Loading...

स्थानीय प्रशासन भी भीषण गर्मी में जाम से निजात दिलाने में परेशान है. चाहकर भी सही दिशा नहीं दे पा रहे हैं. मामले को गंभीरता से देखते हुए पटना-भोजपुर के वरीय अधिकारीयों ने बिहटा आकर मैराथन बैठक की. जिसमें आरा, दानापुर, पालीगंज, फुलवारी के एसडीओ , एसडीपीओ, खनन विभाग के अधिकारी एवं ब्रॉडसन कंपनी के ठेकेदारों की बैठक में कई प्रकार के निर्णय लिये गये.

वहीं सीटी एसपी पटना पश्चिम रविन्द्र कुमार ने सभी अधिकारियों से जाम से निपटने का सुझाव माँगा ताकि वाहनों द्वारा हुए महाजाम से मुक्ति के साथ आमलोगों को भी राहत मिल सके.

ट्रैफिक व्यवस्था सुधारने के लिए सभी दिशाओं के रूट-चार्ट बनाते हुए वरीय अधिकारीयों ने निर्णय लिया कि कोइलवर पुल की स्थिति ठीक नहीं रहने के वजह से दोनों तरफ भारी वाहनों का परिचालन 1-1 घंटे के अंतराल पर होगा. बिक्रम और पतुत के रास्ते अरवल-औरंगाबाद से आने वाली माल-वाहनों को राघोपुर तीन मुहानी पर रोका जाएगा. कोइलवर पुल से क्लीयरेंस मिलने पर हीं वहाँ से गाड़ियों को जाने दिया जाएगा.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.