Input your search keywords and press Enter.

लालू के पेरोल पर शुरू हुआ घमासान, शिवानंद तिवारी ने कसा तंज तो सत्तापक्ष से मिला ये जवाब…

न्यूज़ डेस्क: बेड़े बेटे तेजप्रताप की शादी में शिरकत करने के लिए घर आए लालू प्रसाद के तीन दिन के पेरोल पर राजनीति शुरू हो गयी है. सत्तापक्ष और विपक्ष ने ताबड़तोड़ एक-दूसरे पर आरोप लगाना शुरू कर दिया है. राष्ट्रीय जनता दल के उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने तीन दिन के पेरोल पर तंज कसते हुए कहा है कि आरजेडी सुप्रीमो को हाथ-पैर बांधकर पेरोल पर बाहर भेजा गया है. वहीं, जेडीयू प्रवक्ता नीरज ने भी पेरोल को सियासी एजेंडा नहीं बनाने की नसीहत दी है.

मीडिया से बात करते हुए आरजेडी उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने नाराजगी भरे लहजे में कहा कि हमने पांच दिनों की पेरोल मांगी थी लेकिन मिली तीन दिनों की. उन्होंने कहा कि इसतरह का मामला पहली मर्तबा देख रहा हूं. पेरोल के साथ अजीब-अजीब शर्तें लगा दी गयी है कि लालू प्रसाद मीडिया से मुखातिब नहीं होंगे. किसी अन्य समारोह में लालू प्रसाद शिरकत नहीं करेंगे, हरवक्त कैमरे की नज़र में रहेंगे. इसतरह की शर्तें तो मैंने पहली बार सुनी है.

Loading...

Widget not in any sidebars

शिवानंद तिवारी विरोधियों को सख्त लहजे में कहा कि आरजेडी सुप्रीमो को जितना दबाया जाएगा, वे उतने ही खुलकर आएंगे और उनमें उतना ही निखार आएगा.

आरजेडी उपाध्यक्ष के इन बयानों को सुनने के बाद जेडीयू ने भी पलटवार किया है. JDU प्रवक्ता नीरज कुमार ने भी मीडिया से मुखातिब होते शिवानंद तिवारी पर हमला बोल दिया. नीरज कुमार ने कहा कि लालू प्रसाद को तीन दिन की पेरोल तेजप्रताप की शादी में शिरकत करने के लिए मिली है. इसे राष्ट्रीय जनता दल राजनीतिक मुद्दा नहीं बनाये.

नीरज कुमार ने आरजेडी उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी को लालू परिवार का असली दुश्मन बताते हुए कहा कि जिस चारा घोटाले में लालू प्रसाद को सजा मिली है, उस घोटाले की जांच की मांग को लेकर दायर की गयी याचिका के याचिकाकर्ता शिवानंद तिवारी ही थे लेकिन अब वे राज्यसभा का टिकट नहीं मिलने से बौखालाये हुए हैं. अब वे लालू प्रसाद के पेरोल को मुद्दा बनाकर फिर से मुसीबत में डाल रहे हैं.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.