बिहार सरकार ने 15 साल पुरानी गाड़ियों को किया बैन, पुआल भी जलाने पर प्रतिबंध

Bihar

दिल्ली के बाद पटना भी उन प्रदूषित शहरों में शामिल हो गया है जहां प्रदूषण अपने खतरनाक स्तर तक पहुंच चुका है. इसे देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कल बड़ा फैसला लिया.

बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए नीतीश कुमार ने बड़ा फैसला लेते हुए 15 साल से ज्यादा पुराने वाहनों को परिचालन पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया. यह फैसला 7 नवंबर से  पूरे बिहार में लागू होगा. साथ ही इस बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए.

आपात बैठक में 15 साल से पुरानी किसी भी सरकारी और व्यवसायिक वाहन को पूरे बिहार में चलने पर प्रतिबंध लगा दिया गया. सरकार ने निर्णय लिया कि 7 नवंबर के बाद बिहार के किसी हिस्से में 15 साल पुराना कोई भी सरकारी वाहन नहीं चलेगा. जिसके बाद पटना में ऑटो, बस या फिर कोई ट्रक जितने भी व्यवसायिक वाहन है  उन सब पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया गया.

इसके अलावा निजी वाहनों के लिए सरकार ने निर्देश जारी किया कि 7 नवंबर से सभी निजी वाहनों को फिर से प्रदूषण जांच करानी होगी. पुराने पॉल्यूशन सर्टिफिकेट का कोई महत्त्व नहीं होगा.

गांव में पुआल जलाने पर रोक
गांव में पुआल जलाने से भी गंभीर प्रदूषण की समस्या पैदा होती है इसे देखते हुए सरकार ने फैसला लिया कि गांव में पुआल जलाने पर भी रोक लगाई जाएगी. इसके लिए बड़े पैमाने पर बिहार भर में जागरूकता अभियान चलाया जाएगा. इसके लिए अधिकारियों को भी निर्देश दिए गए हैं कि गांव में पुआल जलाने पर सख्ती बरती जाए.