Input your search keywords and press Enter.

अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गए बिहार के जूनियर डॉक्टर, चरमराती दिख रही है स्वास्थ्य व्यवस्था

बिहार के सभी जूनियर डॉक्टर फिर से हड़ताल पर चले गए हैं। बुधवार को पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (PMCH) सहित बिहार के सभी 9 मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों ने हड़ताल का ऐलान कर दिया है। हालांकि, अब तक PMCH और NMCH को छोड़कर अन्य जिले के अस्पतालों पर इसका खास असर देखने को नहीं मिला है।

आपको बता दें कि PMCH में सुबह से ही OPD और इमरजेंसी सेवा ठप है। यहां मरीजों को जूनियर डॉक्टर हड़ताल के बारे में समझाकर वापस लौटा रहे हैं। हालांकि, कोरोना मरीजों के इलाज में जिनकी ड्यूटी लगी है वे जूनियर डॉक्टर कार्य करेंगे। राज्य के सभी जूनियर डॉक्टरों ने एक सूत्री मांग स्टाइपेंड बढ़ाने को लेकर आज से हड़ताल पर जाने का ऐलान किया है।

जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के अनुसार 2017 के बाद स्टाइपेंड में रिवीजन नहीं किया गया, जबकि नियम के मुताबिक इसमें हर तीन साल पर बढ़ोतरी करनी है। अभी स्टाइपेंड प्रथम वर्ष में 50 हजार, दूसरे वर्ष में 55 हजार और तीसरे वर्ष में 60 हजार रुपए मिलते हैं। जूनियर डॉक्टर इसे बढ़ाकर 80 हजार, 85 हजार और 90 हजार करने की मांग कर रहे हैं।

जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल को रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने भी समर्थन दिया है। हालांकि, इस हड़ताल का प्रदेश के अन्य अस्पतालों पर असर नहीं दिख रहा है। अस्पतालों में डॉक्टर पहले की तरह ही ड्यूटी में लगे हुए हैं।