राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को जेल पहुंचाने वाले CBI ऑफिसर पर रिश्वत लेने का केस दर्ज

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए


2013 में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को ‘पिंजरे में बंद तोता’ और ‘मालिक की आवाज़’ बताया था, ऐसा नहीं है कि मोदी राज में कुछ परिवर्तन आया, परिस्थितियां आज भी वही हैं. मालूम हो कि सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर के उपर घूस के आरोप में मुकदमा दर्ज हुआ है. अब इसे लेकर राजद नेता एक बार फिर से केंद्र सरकार पर हमला बोल रहे है. इस मामले पर तेजस्वी यादव के राजनीतिक सलाहकार ने जमकर निशाना साधा है.

दरअसल, बहुचर्चित चारा घोटाला मामले में जिस सीबीआई अधिकारी की ‘निष्पक्ष’ जांच की बदौलत राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव आज सजा भुगत रहे हैं. उसी जाँच के सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ अब 3 करोड़ रुपए घूस लेने का केस दर्ज किया गया है. अब राजद ने इस मामले में पीएम मोदी पर हमला करते हुए कहा कि सीबीआई में जारी गैंगवार ने पीएम मोदी के भ्रष्टाचार मुक्त भारत की पोल खोल दी है.

बता दें कि राकेश अस्थाना पर आरोप है कि मीट कारोबारी मोईन कुरैशी से जुड़े एक मामले में क्लीनचिट देने के लिए उन्होंने रिश्वत ली है. मोइन कुरैशी एक मीट कारोबारी हैं जो कि अगस्त, 2016 में गिरफ्तार हुए थे. उन पर आरोप था कि वे संदिग्ध लोगों को राहत दिलाने के नाम पर उनसे सीबीआई डायरेक्टर के नाम पर पैसा वसूलते थे, इसके पहले उन पर 6 मामलों में अलग-अलग जांच चल रही है.

विदित हो कि राकेश अस्थाना 1984 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस हैं. वह पहली बार साल 1996 में चर्चा में आए, जब उन्होंने चारा घोटाला मामले में लालू यादव को गिरफ्तार किया. दूसरी तरफ, 2002 में गुजरात के गोधरा में साबरमती एक्सप्रेस में आगजनी की जांच के लिए गठित एसआईटी का नेतृत्व भी राकेश अस्थाना ने ही किया था. इसके अलावा वह अहमदाबाद ब्लास्ट और आसाराम केस जैसे तमाम चर्चित मामलों की जांच में शामिल रहे हैं. अस्थाना को पिछले साल अक्टूबर में सीबीआई का स्पेशल डायरेक्टर नियुक्त किया गया था.

पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के राजनीतिक सलाहकार संजय यादव ने इस मामले में राकेश अस्थाना के साथ-साथ केंद्र सरकार और पीएम मोदी पर हमला बोला है. उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट और ट्विटर हैंडल पर लिखा है, ‘चारा घोटाला केस की जांच व तथ्यों को डिस्टोर्ट कर लालू प्रसाद को फंसाने वाले तत्कालीन एसपी व अभी सीबीआई में वर्तमान नंबर 2, राकेश अस्थाना के ख़िलाफ़ सीबीआई ने 3 करोड़ रुपए की रिश्वत लेने का मामला दर्ज किया है.’

संजय यादव ने पीएम मोदी और अमित शाह पर निशाना साधते हुए लिखा है, पांच साल पहले से ही गुजरात की स्टर्लिंग कंपनी के घोटाले में वह पहले ही सीबीआई की एफ़आईआर में नामजद है. यह जानते हुए भी मोदी जी और अमित शाह जी ने उन्हें सीबीआई का स्पेशल डायरेक्टर बनाया.’

संजय ने आगे लिखा है, ‘चारा घोटाले में ही खुलकर यह कहने वाले कि मैं लालू प्रसाद को फँसा कर मानूँगा वह “यू.न बिस्वास” जो उस वक़्त सीबीआई में अडिशनल डायरेक्टर थे. वो राकेश अस्थाना को कुछ दिन पहले क्लीन चिट दे रहे थे. ऐसे अधिकारी जो ख़ुद रिश्वत लेकर केस मैनेज करने के आरोप में अपने ही विभाग द्वारा पकड़ें गए है तो उस अधिकारी द्वारा अब तक जांचे गए सभी मामलों की दोबारा जांच होनी चाहिए.’

आगे संजय यादव ने लिखा है कि ‘अब समझ लीजिये लालू जी को फंसाने के लिए इस अधिकारी ने कितनी रिश्वत ली होगी? लालू जी को फँसाने के लिए रिश्वत भी मिली, रिश्ता भी बना और प्रमोशन भी मिला, लेकिन अब सारी पोल खुल गयी.’

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

About author

Related Articles