Input your search keywords and press Enter.

CM नीतीश ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को दिया जवाब,जानिए क्या ?

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के पिछले दिनों भोजपुरी और मगही भाषा को लेकर की गई विवादास्पद टिप्पणी का मामला गरमाता जा रहा है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हेमंत सोरेन के इस बयान पर आपत्ति जताई है. सोमवार को अपने जनता दरबार कार्यक्रम के बाद उन्होंने कहा कि जिन लोगों को इस बात एहसास नहीं है, वो इस तरीके का बयान देते हैं. पूर्व में बिहार और झारखंड दोनों एक ही थे. इन दोनों राज्यों के लोगों का एक दूसरे के प्रति काफी प्रेम है.राजनीतिक तौर पर लोग क्या बोलते हैं, क्या बात समझ में नहीं आती है.

सीएम नीतीश ने कहा कि झारखंड बिहार से अलग हो गया है, हम इस बात की इज्जत करते हैं. लेकिन बिहार और झारखंड दोनों भाई और एक ही परिवार के सदस्य हैं. पूरा देश एक परिवार है. बिहार को झारखंड पर और झारखंड को बिहार पर कुछ बोलने की आवश्यकता नहीं है. उन्होंने कहा कि पहले बिहार के लोग काम के लिए झारखंड जाते थे, अब कोई नहीं जाता है. बिहार-झारखंड के बंटवारे से बिहार में मायूसी आ गई थी. लेकिन अब कोई झारखंड को याद नहीं करता. अब बिहार में विकास हो रहा है और काम हो रहा है.

उन्होंने कहा कि कोई भाषा बोलने वाले लोग एक राज्य में नहीं रहते, वो अलग-अलग राज्यों में रहते हैं. राजनीति लाभ के लिए यदि कोई भाषायी बयान देता है, तो वो बोलता रहे. हमें इन सब चीजों से लेना-देना नहीं है. हमारे मन में झारखंड के प्रति सम्मान का भाव है.

‘6 महीने में 6 करोड़ लोगों को लगाया जाएगा कोरोना वैक्सीन’

17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर बिहार में हुए रिकॉर्ड कोरोना टीकाकरण पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा बिहार में छह महीने में छह करोड़ से ज्यादा वैक्सीन लगाया जाएगा. पीएम मोदी के जन्मदिवस पर राज्य में 33 लाख से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हुआ है. बिहार में सभी लोग सक्रिय हैं, इसलिए वैक्सीनेशन का काम तेजी से जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि वैक्सीन भी जितनी मिलनी चाहिए उतनी मिल रही है. छह करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाना हमारा कर्तव्य है.