Input your search keywords and press Enter.

चिराग को NDA से बाहर कराने के मूड में CM नीतीश!

नीतीश कुमार बिहार विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी की हालत का दर्द कतई भुला नहीं पा रहे हैं। विश्वास के अनुरूप चुनाव में पार्टी को सीटें मिलने के लिए वह लोजपा को कुसूरवार मानते हैं। यह वजह है कि वह लगातार लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान को उनकी हैसियत दिखाने के मूड में हैं।

उनकी कोशिश रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा को एनडीए में लाने और लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान को एनडीए से बाहर कराने की हैं। कुछ दिन पहले रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके आवास पर उनसे लम्बी मुलाकात की थी। उसके कुछ ही दिन बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उनके पुराने साथी और पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह से एक शादी समारोह में लम्बी मुलाकात हुई।

समझा जाता है कि दोनों लोगों के बीच पुराने मतभेद भुलाने पर बात हुई। नीतीश पुराने सहयोगियों के साथ मतभेद भुला कर उन्हें फिर से साथ लाकर अपनी ताकत बढ़ाना चाहते हैं, ऐसा राजनीति को समझने वालों का मानना है। नरेंद्र सिंह नीतीश कुमार के पुराने साथी हैं। नरेंद्र सिंह ने चुनाव नतीजे आने के बाद नीतीश कुमार को फोन कर मुख्यमंत्री बनने की बधाई भी दी थी।

उनके बेटे सुमित कुमार सिंह जमुई की चकाई विधानसभा सीट से निर्दलीय विधायक के रूप में चुने गए हैं। वह नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए सरकार को समर्थन की घोषणा कर चुके हैं। नरेंद्र सिंह लोक जनशक्ति पार्टी के बिहार अध्यक्ष रह चुके हैं. 2005 में एलजेपी से अलग होकर जेडीयू के साथ आ गए थे, जिसके बाद नीतीश ने उन्हें विधान परिषद का सदस्य बनाकर अपनी कैबिनेट में शामिल किया था।