Input your search keywords and press Enter.

नोटबंदी का समर्थन करने वाले CM नीतीश ने अब कह दी ये बड़ी बात, पक्ष और विपक्ष हैरान


न्यूज़ डेस्क: केन्द्र सरकार द्वारा लागू की गयी नोटबंदी का समर्थन करने वाले बिहार के मुखिया नीतीश कुमार ने राज्यस्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक में बयान देकर सभी को हैरान कर दिया. उन्होंने SLBC की बैठक में नोटबंदी पर चुटकी लेते हुए कहा कि हम तो नोटबंदी के समर्थक थे लेकिन कैसे सारे नोट वापस हो गए, ये समझ में नहीं आता. आखिर क्या फायदा हुआ आम लोगों को नोटबंदी का. SLBC के इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के अलावा उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, कृषि मंत्री प्रेम कुमार और शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा भी मौजूद थे.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बैंक की कार्यप्रणाली से नाराजगी जताते हुए इसे ऊपर से नीचे तक दुरुस्त करने की बात कही. मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक में बोलते हुए कहा कि देश के विकास में बैंकों की महत्वपूर्ण भूमिका है. उन्होंने कहा कि किसी भी तंत्र का पारदर्शी होना जरूरी है. मुख्यमंत्री ने उदाहरण देते हुए कहा कि जिस तरह से प्रशासनिक सेवा में कोई व्यक्ति घूस लेता हुआ या गड़बड़ी करता हुआ पाया जाता है तो वह जेल भी जाता है और नौकरी से भी हाथ धो देता है. ठीक उसी प्रकार हम देखना चाहते हैं कि बैंकिंग सेवा का क्या स्तर है. इसमें किसी तरह की कोई गड़बड़ी करने पर क्या कार्रवाई होती है. इस पर भी ध्यान दीजिए.

Loading...



Widget not in any sidebars

उन्होंने कहा कि बैंक केवल पैसा जमा करने निकालने या लोन देने के लिए नहीं है बल्कि राष्ट्र के विकास में इसका महत्वपूर्ण योगदान है. मुख्यमंत्री ने कहा कि सामाजिक सुधार से लेकर देश के विकास के हर क्षेत्र में बैंक की बड़ी भूमिका है. उन्होंने बैंकों से कहा कि निचले स्तर पर अपनी शाखाओं की संख्या बढ़ाये.



उन्होंने कहा कि आज के समय में हर काम बैंकों के माध्यम से हो रहा है. ग्रामीण क्षेत्रों में अगर बैंक अपनी शाखा खोलना चाहता है तो राज्य सरकार पूरी तरह से मदद करेगी. इसके लिए जिला प्रशासन को निर्देश भी दिया जा चुका है. उन्होंने कहा कि ग्राहक सेवा केंद्र समेत सभी तंत्र को पारदर्शी बनाने की जरूरत है. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने बैंकों से आग्रह करते हुए कहा कि निचले स्तर पर व्यवसायियों को लोन की सुविधा उपलब्ध कराने पर ध्यान दें.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हमारे राज्य में 10-12 हज़ार करोड़ वाले तो क्या 1000-500 करोड़ वाले व्यवसायी भी नहीं मिलेंगे. यहां कुछ लाख या करोड़ वाले व्यवसायी हैं इसलिए इस पर आप लोग ध्यान दीजिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार तो अपने स्तर पर बहुत कुछ कर रही है लेकिन यह पर्याप्त नहीं है. बैंक को भी मदद करनी चाहिए तभी सूक्ष्मस्तर पर व्यवसाय और रोजगार बढ़ेंगे.



Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.