Input your search keywords and press Enter.

सर्जिकल स्ट्रिाइक पर केजरीवाल को बोलना पड़ा महंगा, मुजफ्फरपुर में परिवाद दायर

kejariwal

kejariwal


मुजफ्फरपुर.विकाश कुमार गुप्ता. भारतीय सेना द्वार जम्मू कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक पर दिल्ली के मंख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वार इसका सबूत मांगना भारी पर गया है. अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मुजफ्फरपुर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (सीजेएम) रामचंद्र प्रसाद के न्यायालय में परिवाद दायर किया गया हैं.

यह परिवाद नगर थाना के पांडेय गली निवासी व ‘आप व हम’ पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगन्नाथ साह ने दायर की है. इस परिवाद में कांग्रेस नेता पी चिदंबरम व संजय निरुपम को आरोपी बनाया गया है. इन नेताओं के खिलाफ देशद्रोह व भारतीय दंड विधान की अन्य धाराओं के तहत आरोप लगाए गए हैं. इस पर सुनवाई 19 अक्टूबर को होगी.

परिवाद पत्र में जगन्नाथ साह ने कहा है कि 29 सितंबर को भारतीय सेना ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक चलाया. इस कार्रवाई का देश की 125 करोड़ जनता ने समर्थन किया. इस संबंध में विभिन्न समाचार माध्यमों में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का बयान प्रमुखता से प्रकाशित हुआ.

Loading...

इस बयान में कथित तौर पर भारतीय सेना के खिलाफ बोलने पर वे तथा उनके पार्टी के कार्यकर्ता आहत हुए. सर्जिकल स्ट्राइक नहीं होने के उनके कथित बयान से भारतीय सेना का अपमान हुआ है और समाज पर बुरा असर पड़ा है. उनके संपर्क में आए सेना व सेवानिवृत्त सैनिकों की इच्छा है कि इन नेताओं के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाया जाए.

[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:” posts_per_page=”3″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

Leave a Reply

Your email address will not be published.