Input your search keywords and press Enter.

बंद का असर, बीजेपी और कांग्रेस दोनों आई सवर्णों के आरक्षण के समर्थन में

bharat band

सवर्णों के बंद का इतना ब्यापक असर होगा यह किसी को अंदाजा नहीं था. जी हां कांग्रेस और बीजेपी दोनों दल के बड़े नेताओं द्वारा गरीब सवर्णों को 10% आरक्षण देने की बात सामने आ रही है. कांग्रेस के बड़े नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने सवर्ण आरक्षण से संबंधित एक खबर को री-ट्वीट किया जिससे साफ़ हो गया कि कांग्रेस गरीब सवर्णों को आरक्षण पर आगे बढ़ रही है.

अभिषेक मनु सिंघवी के बाद बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अनिल शर्मा एलान करते हैं कि उकी पार्टी उच्च जातियों के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने की मांग करती है. यहीं नहीं बिहार कांग्रेस के प्रवक्ता प्रेमचंद्र मिश्रा ने भी गरीब सवर्णों को 10% आरक्षण देने संबंधी मांग का समर्थन किया है.

Loading...

बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेता और कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने भी गरीब सवर्णों को आरक्षण देने पर बयान दिया है. मतलब साफ़ है गरीब सवर्णों द्वारा बंद का व्यापक असर होता दिखाई दे रहा है. भारत बंद का ही नतीजा है जिसका निष्कर्ष ये निकाला गया कि सवर्णों में बीजेपी के प्रति भारी गुस्सा है.

हालांकि कांग्रेस का बयान सही कितना और जुमला कितना बताना जल्दीबाजी होगी. 1991 में मंडल कमीशन रिपोर्ट लागू होने के ठीक बाद पीएम पीवी नरसिंह राव ने भी गरीब सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला किया था लेकिन 1992 में सुप्रीम कोर्ट ने इसे असंवैधानिक करार देते हुए खारिज कर दिया.

जो भी कांग्रेस अब यह प्रयास कर रही है कि आरक्षण के नाम पर ही सही सवर्ण वोटर उनके पाले में आये जाए तो बीजेपी का जो वोट बैंक यह वह ख़त्म हो जायेगा और फिर लोकसभा क्या विधानसभा की राह भी बहुत आसान हो जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.