Input your search keywords and press Enter.

बिग ब्रेकिंग: अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे को कोर्ट ने दिया तगड़ा झटका…

file photo


न्यूज़ डेस्क: केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे के अग्रिम जमानत पर भागलपुर एडीजे कोर्ट में सुनवाई हुई है कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है. करीब घंटे तक जमानत की बिंदु पर बचाव और सरकार की ओर से बहस हुई. जिसके बाद कोर्ट ने अग्रिम जमानत याचिका को ख़ारिज कर दिया है. बांकी आरोपितों के जमानत के लिए अलग से तारीख के बाद सुनवाई होगी.

अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे समेत नौ आरोपितों अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई हुई. विदित हो कि 17 मार्च को बिना अनुमति भारतीय नववर्ष का जुलूस निकालने समेत अन्य आरोप अर्जित पर लगाए गए हैं. इस मामले में न्यायालय द्वारा गिरफ्तारी वारंट अर्जित शाश्वत चौबे, अभय कुमार घोष, प्रमोद वर्मा पम्मी, देव कुमार पांडेय, सुरेंद्र पाठक, अनुप लाल साह, संजय भट्ट, प्रणव साह उर्फ प्रणव दास के खिलाफ निर्गत किया था.

Loading...

गौरतलब है कि अर्जित चौबे को लेकर बिहार की राजनीति में उफान आया हुआ है. विपक्ष लगातार सीएम नीतीश पर हमलावर है वहीं बीजेपी अर्जित का पुरजोर बचाव करने में जुटी है. हालांकि जदयू ने भी अब इस मामले में अर्जित पर कड़ा रुख अपनाना शुरू कर दिया है. के सी त्यागी ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि अर्जित अगर सरेंडर करें तो उनके पोलटिकल कैरियर के लिए अच्छा रहेगा. कानून से ऊपर कोई नहीं है, जो मुजरिम है वो मुजरिम है, वो किसी का बेटा या बाप नहीं होता. कानून की नजर में सभी बराबर हैं. वहीं राज्य के कई जिलों में हो रहे हिंसक झड़प पर केसी त्यागी ने भाजपा नेताओं को सचेत करते हुए कहा कि उन्हें धार्मिक बयानबाजी करने से बचना चाहिए. अर्जित पर आरोप है कि हिंदू नए साल की शुरुआत होने पर निकाले गए जुलुस का नेतृत्व कर रहे थे जहां लाउडस्पीकर तेज बजाने का एक समुदाय द्वारा विरोध किये जाने पर हिंसा भड़क उठी थी. अर्जित पर यह भी आरोप है कि जुलूस निकालने के लिए प्रशासन से अनुमति नहीं ली गई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.