Input your search keywords and press Enter.

शेखपुरा डीएम का फरमान, अयोग्य, आलसी और भोगोड़े विकास मित्र को हटाएं

डीबीएन न्यूज/शेखपुरा(ललन कुमार)

शेखपुरा डीएम योगेंद्र सिंह ने फरमान जारी करते हुए कहा कि जो विकास मित्र अयोग्य, आलसी और भगोड़े हैं, उन्हें अविलंब हटाऐं. यह आदेश डीएम ने विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक के दौरान जिला कल्याण पदाधिकारी को दिया.जिला कल्याण पदाधिकारी ने डीएम को बताया कि विकास मित्र के कुल पदों की संख्या जिले में 83 हैं. इनमें तीन विकास मित्र के खिलाफ आरोप पत्र प्राप्त हैं. वे लगातार कार्यालय से अनुपस्थित रहते हैं और कार्य नहीं करते हैं. डीएम ने जिला कल्याण पदाधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि जो विकास मित्र अयोग्य, आलसी और भगोड़े हैं, उन्हें अविलंब हटाएं.

Loading...

वही डीएम ने जननायक कर्पूरी ठाकुर अति पिछड़ा वर्ग कल्याण छात्रावास की समीक्षा करने के दौरान पाया कि छात्रावास में मात्र 33 नामांकित छात्र हैं. जबकि 100 बेड के छात्रावास है. डीएम ने इसे गंभीरता से लेते हुए जिला कल्याण पदाधिकारी को निर्देशित किया कि आवासीय छात्रावास में सभी सीटों पर नामांकन कराकर छात्रों का आवासन करें.साथ ही सरकार के द्वारा प्रतिमाह ₹1000 छात्रवृत्ति और निर्धारित चावल व गेहूं उन्हें उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें.

वहीं डीएम ने शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान डीईओ को निर्देशित करते हुए कहा कि बिहार सरकार द्वारा SSC की परीक्षा शेखपुरा जिले में ली जानी है. इस दौरान आयोजित सिपाही भर्ती की परीक्षा का केंद्र का चयन करना है. वैसे केंद्रों का चयन करें जो पहले से चयनित हैं. साथ ही आयोजित सिपाही भर्ती की परीक्षा कदाचार मुक्त वातावरण में कराने के लिए उपयुक्त केंद्रों का चयन करें.डीएम ने प्रबंधक एसएफसी को निर्देशित किया कि अवशेष चावल को शत प्रतिशत मिलरों से वसूली करना सुनिश्चित करें.बकाया राशि को ब्याज के साथ वसूल करें. राशि नहीं देने पर विधि सम्मत कार्रवाई करें.बैठक में जिला कल्याण पदाधिकारी प्रमोद राम, एसएफसी के प्रबंधक, डीपीआरओ सत्येंद्र प्रसाद समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.