Input your search keywords and press Enter.

बीजेपी के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह की घर वापसी,जिसकी वजह से जेडीयू को हुआ था बड़ा नुकसान

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के समय जिस दिनारा सीट पर बीजेपी के बागी नेता राजेंद्र सिंह ने लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था, अब उनकी घर वापस हो गयी है. राजेंद्र सिंह वापस बीजेपी में शामिल हो गए हैं. बता दें, बिहार विधान सभा चुनाव 2020 के चुनाव के दौरान दिनारा सीट को लेकर ही बीजेपी और जदयू (BJP-JDU) में तकरार शुरू हुई थी. तब JDU ने आरोप भी लगाया था कि बीजेपी जदयू को हराने के लिए लोजपा का सहारा लेकर बागियों को टिकट दे रही है. बताया जाता है कि यही वजह थी कि दिनारा सीट पर JDU के वरिष्ठ नेता जय कुमार सिंह चुनाव हार गए थे. इसके अलावा भी कई और सीटों पर जेडीयू को बीजेपी की वजह से नुकसान उठाने की बात सामने आई थी.

बताया यह जा रहा है कि बिहार बीजेपी अध्यक्ष संजय जायसवाल ने राजेंद्र सिंह को वापस बुलाने में बड़ी भूमिका निभाई है. बीजेपी के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष व झारखंड के पूर्व संगठन मंत्री राजेंद्र सिंह की घर वापसी पर संजय जायसवाल ने उनका स्वागत करते हुए कहा कि राजेंद्र सिंह के बीजेपी में वापस आने उनकी सांगठनिक क्षमता और अनुभव का हमलोगों को फायदा मिलेगा. इस दौरान संजय जायसवाल ने यह भी इशारा किया कि आने वाले दिनों में कुछ और नेताओं की भी घर वापसी होगी.

इधर बीजेपी में फिर से शामिल होने के बाद राजेंद्र सिंह भी बेहद उत्साहित दिखे. उन्होंने कहा कि मेरा पूरा राजनीतिक जीवन जनसेवा और राष्ट्र निर्माण के लिए समर्पित रहा है. सभी साथियों और उन हजारों-लाखों समर्थकों का भी बहुत बहुत धन्यवाद जिन्होंने हर कठिन परिस्थिति में मेरा साथ दिया. भारतीय जनता पार्टी का एक बार फिर से हिस्सा बन कर खुद को सौभाग्यशाली महसूस कर रहा हूं.

नाराज होकर छोड़ दिया था बीजेपी का साथ

बता दें, बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में दिनारा सीट पर बीजेपी चुनाव लड़ना चाहती थी. लेकिन टिकट बंटवारे में सीट जदयू को दे दिया गया था और टिकट नहीं मिलने पर बीजेपी के पूर्व उपाध्यक्ष व झारखंड के पूर्व संगठन मंत्री राजेंद्र सिंह ने नाराज होकर भाजपा का साथ छोड़ लोक जन शक्ति पार्टी का दामन थाम लिया था. वह दिनारा से ही लोजपा के प्रत्याशी बन गए थे. हालांकि, चुनाव में राजेंद्र सिंह को भी हार का सामना करना पड़ा था. लेकिन, उनके उतरने से जदयू उम्मीदवार जय कुमार सिंह हार गए थे और राजद ने जीत दर्ज की थी. इससे पूर्व 2015 के चुनाव में राजेन्द्र सिंह महज ढाई हजार वोटों से चुनाव हार गए थे और तब उन्हें जय कुमार सिंह ने ही चुनाव हराया था.

DU नेता ने कहा- यह सब चलता रहता है

राजेंद्र सिंह के भाजपा में फिर से शामिल होने पर जदयू नेता और पूर्व मंत्री जय कुमार सिंह ने कहा कि राजेंद्र सिंह का भाजपा में शामिल होना भाजपा का मामला है इससे हमारी पार्टी को क्या लेना देना? हमारी पार्टी में भी कुछ ऐसे नेता थे जो टिकट नहीं मिलने की वजह से पार्टी छोड़ दूसरे के टिकट पर चुनाव लड़ा था, जैसे मंजित सिंह. उन्होंने भी JDU में शामिल होना चाहा और पार्टी ने शामिल कराया ये सब राजनीति में चलता रहता है.