Input your search keywords and press Enter.

बिहार के सैकड़ो मजदूर फंसे “कतर” में, 3 महीने से खाने को पड़े लाले,भारत सरकार का विदेश मंत्रालय बेख़बर..

डीबीएन न्यूज/मुजफ्फरपुर(मो साकिब)- “कतर” के एक “एडवांस्ड विज़न साओ” कंपनी में तकरीबन सैकड़ों भारतीय लोगों के फंसे होने की खबर है. बताया जा रहा है कि कंपनी 3 महीने से मजदूरों को वेतन नही दे रही है. जिस कारण वे सभी लोग भारतीय दूतावास के कई बार चक्कर लगा चुके है. लेकिन न ही कतर मिनिस्ट्री उन पर ध्यान दे रही है और न ही भारतीय दूतावास कोई सख्त कदम उठा रही है.

फंसे हुए अधिकतर लोग सिवान, गोपालगंज, मोतिहारी व मुजफ्फरपुर के है. संकट में फसे सभी मजदूरों ने एक वीडियो के माध्यम से भारत सरकार से मदद की गुहार लगाई है. सभी मजदूरों के साथ हो रही ज्यादती और वहां से निकालने की गुहार लगाते दिख रहे है और सभी लोग भूख से तड़पते दिख रहे है.

Loading...

Widget not in any sidebars

कंपनी सभी मजदूरों का खाना भी बंद कर दिया है. मजदूरो का कहना है कि कल से रमजान शुरू हो रहा है. हमलोग रोजा कैसे रखूंगा और हमलोगों के पास पैसा भी नही है. बताया जा रहा है कि सिवान के मो. शम्सुल होदा, वसीम अख्तर आलम, असलम अंसारी, प्रिंस खान, सलंकी गुप्ता, धर्मेंद्र सिंह, सलाउद्दीन अंसारी, रफीक मिया, सौकत शैख़, महमूद आलम- मोतिहारी के जावेद आलम , आफताब आलम -मुजफ्फरपुर के मो.मिंटू मंसूरी, मो. आबिद हुसैन आदि फंसे है. आखिर फंसे मजदूरो की सुधि कब लेगा विदेश मंत्रालय. अब यह देखना लाजिम होगा कि भारतीय विदेश मंत्रलाय भारत के फंसे मजदूरो को सुध कब तक लेती है और उनकी सकुशल वापसी कब सुनिश्चित होती है.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.