Input your search keywords and press Enter.

बीपीएससी परीक्षा में 387 वा रेंक लाकर विद्यापति की धरती का नाम किया गौरवान्तित

मधुबनी/पुष्परंजन बजाज,डीबीएन न्यूज

महाकवि कोकिल विद्यापति की जन्मस्थली बिस्फी निवासी अरुण कुमार घोष व चन्द्रकला घोष के पुत्र शशि रंजन ने बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा में सफलता हांसिल कर विद्यापति की धरती व जिले का नाम गौरवान्तित किया है.शशि रंजन ने 56-59 वी बीपीएससी के इस परीक्षा में 387 वां रैंक प्राप्त किया है.देश विदेश में बहुचर्चित विद्यापति के जन्मस्थली बिस्फी निवासी शशि रंजन अपनी विभिन्न परीक्षाओं की तैयारी दिल्ली में रहकर करते थे.सेवानिवृत्त शिक्षक अरुण घोष माँ चन्द्रकला के चार पुत्र पुत्रियों में से शशि तीसरे नम्बर पर है.शशि की सबसे बड़ी बहन शशि प्रभा सूबे के आरा जिले में जिला सांख्यिकी पदाधिकारी है.दूसरी बहन उषा रानी शिक्षिका तो वहीं छोटी बहन अंजना चेन्नई में वैज्ञानिक है.बताते चले कि शशि की ये कोई पहली सफलता नही है.शशि ने 2010 में भी आईएएस की लिखित परीक्षा को क्रेक कर साक्षात्कार परीक्षा तक का सफर कर चुके हैं.साथ ही मौजूदा में भी कर्मचारी चयन आयोग अधीन लेबर इंफोर्समेंट ऑफिसर की परीक्षा में भी शशि ने सफलता हांसिल किया है.

Loading...

बीपीएससी में सफलता करने के बाद शशि बिहार शिक्षा सेवा में अधिकारी बनेंगे.शशि ने बताया कि 6-7 वर्षो में प्रतियोगी काल मे कई सफलता व असफलताओं को करीब से देखा हूँ.शशि ने युवा छात्रों से अपील की है कि वे असफलताओं से घबराने की जरूरत नही है बल्कि मुकाबला करे.पश्चात ही वे बड़े से बड़े सफलताओ को अपने पक्ष में कर सकते है.इस सफलता पर याचिका समिति के सभापति सह स्थानीय विधायक डा फैयाज अहमद एवं शिक्षाविद विष्णुदेव सिंह यादव ने कहा है कि इस सफलता से विद्यापति की धरती और भी सुगंधित हुई है साथ ही शशि भविष्य में ओर भी प्रखरता प्राप्त करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.