Input your search keywords and press Enter.

रमना मैदान में झंडोत्तोलन जिलाधिकारी ने किया, 15 अगस्त को और तीन देश आजाद हुआ था

आरा,रामाशंकर प्रसाद

कई दशकों से आजादी के बाद इस ऐतिहासिक रमना मैदान में तिरंगे को फहराया जाता है. आज वही ऐतिहासिक दिन है.रमना मैदान में जिले के जिलाधिकारी संजीव कुमार ने झंडाेतोलन कर आजादी के वीर सपूतों द्वारा किए गए कार्यों को याद दिला दिया है.जैसे ही झंडा तोलन का कार्यक्रम हुआ और ‘जन- गण- मन’ बच्चियों ने शुरू किया. जैसे ही झंडाेतोलन किया गया और परेड की सलामी ली गई उसके बाद उपस्थित सारे मुख्य अतिथियों पुलिस के अधिकारियों प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा भोजपुरी वासियों ने एक साथ ‘जन- गण मन अधिनायक जय हे..’ गाया तो पूरा माहौल देश भक्तिमय हो गया.

Loading...

झंडाेतोलन करने के बाद लोगों को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी मंच पर मौजूद थे.जिलाधिकारी संजीव कुमार, पुलिस कप्तान अवकाश कुमार, जिला परिषद अध्यक्षा आरती देवी, विधायक अनवर आलम, विधायक अरुण यादव, डाँ.विकास सिंह के अलावा भारी संख्या में अधिकारी मौजूद थे।इसके बाद संजीव कुमार ने परेड की सलामी ली. 5 बिहार बटालियन NCC सैफ स्काउट के अलावे महिला सशस्त्र बल बिहार पुलिस के जवान भी मौजूद थे. झंडाेतोलन एवं परेड की सलामी लेने के बाद जिलाधिकारी ने मंच से बोलते हुए कहा कि सूबे की सरकार विकास के लिए कटिबद्ध है. सात निश्चय को पूरा किया गया है और किया जा रहा है ताकि भोजपुर में विकास की गंगा बहती रहे. समारोह में भोजपुर को जो लोग नाम बढ़ाएं हैं उन लोगों को सम्मानित भी मंच से किया गया.


Widget not in any sidebars

भारत को 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली थी.लेकिन क्‍या आपको पता है 15 अगस्‍त की तारीख को केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के तीन और देशों को आजादी मिली थी.ये तीन देश थे.दक्षिण कोरिया, बहरीन, और कांगो.इन तीनों ही देशों को 15 अगस्त ही के दिन आजादी मिली थी.

DIGI Singing Star Audition के लिए क्लिक करें

दक्षिण कोरिया को 1945 में जापान से आजादी मिली थी.वहीं दूसरी ओर बहरीन को 15 अगस्त 1971 में ब्रिटेन से आजादी मिली.जबकि कांगो को 1960 में फ्रांस से स्वतंत्रता हासिल हुई.यही नहीं इसमें भी बड़ी चौंकाने वाली बात यह है कि ब्रिटेन तो भारत को 1947 को नहीं बल्कि उसके अगले साल 1948 में आजाद करना चाहता था, लेकिन महात्‍मा गांधी के भारत छोड़ो आंदोलन से अंग्रेज इतने परेशान हो चुके थे कि उन्‍होंने भारत को एक साल पहले ही यानी की 15 अगस्‍त 1947 को ही आजाद करने के विचार पर फैसला ले लिया.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.