Input your search keywords and press Enter.

जेपी के आन्दोलनकारी सिपाही आज भी उपेक्षा के शिकार, 5 जून को होगा पटना राजभवन मार्च

डीबीएन न्यूज/मनेर (पंकज दुबे) मनेर के गांधी मैदान के एक निजी स्कूल के प्रांगण में सम्पूर्ण क्रान्ति मंच के जिला सम्मेलन में आन्दोलनकारी बिफर पड़े .इस सम्मेलन की अध्यक्षता राजगीर प्रसाद ने की.

वहाँ जुटे प्रमुख वक्ताओं ने कहा कि 5 जून 1974 को लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने सम्पूर्ण क्रान्ति मंच का गठन केवल सत्ता प्रवर्तन के लिए किया था.लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि व्यवस्था सुधरने के बजाय और खराब होती जा रही है. आज अधिकांश राज्यों में आन्दोलन से जन्में नेता हीं सरकार चला रहे हैं और उसके सिपाही उपेक्षित हो रहे हैं.


Widget not in any sidebars

पांच सुत्री मांगों तथा व्यवस्था परिवर्तन को लेकर पूरे राज्य में फिर से आन्दोलन किया जाएगा.इनके प्रमुख मांगों में 1974 -77 के आन्दोलनकारीयों के लिए 2009-2015 में बनाए गए बिहार गजट को शत प्रतिशत लागू करने, स्वतंत्रता सेनानियों की तर्ज पर दर्जा देना, उनके बाल-बच्चे को नौकरी में आरक्षण, दिवंगत आन्दोलनकारियों के विधवाओं, आश्रितों, डीआईआर और अन्य धाराओं में जेल गए तथा भटक रहे भूमिगत साथियों को भी लाभ के दायरा में लाना, बस-ट्रेन में फ्री पास, पहचान-पत्र, तथा मेडिकल में भी बिल प्रति-पूर्ति लागू करन शामिल है.

Loading...

इन सब मांगों को सम्पूर्ण क्रान्ति के 44वीं वर्षगाँठ पर 5 जून को जेपी आन्दोलनकारी पटना आकर राज भवन मार्च करेंगें. कार्यक्रम में जुटे प्रदेश के महासचिव एवं मनेर के पूर्व विधायक प्रो सूर्यदेव त्यागी ने कहा कि जो आन्दोलनकारियों के बल पर आज सत्ता सुख भोग रहे हैं वो स्वार्थी होकर सेनानियों को भी भूल गए.

इन्हें सबक सिखाना पड़ेगा.अब जरूरत है हर जाति-घर्म, दलों, अमीरी-गरीबी से उपर उठ कर थोड़ा व्यवस्था में मूल-चूक परिवर्तन कर जेपी के सपनों का भारत बनाने का.सभी प्रवक्ताओं ने ऐलान किया कि आगामी चुनाव में पटना जिले से दलविहिन राजनेता चुनने की शुरूआत करेंगें.

वहीं प्रदेश अध्यक्ष रामप्रवेश सिंह ने कहा कि कैसी विडंबना है कि जो शिक्षा और चिकित्सा व्यवस्था और बेरोजगारी के लिए ही लड़ कर सत्ता परिवर्तन करा दिया पर आज तक व्यवस्था परिवर्तन नहीं हुआ.मंहगाई चरम सीमा पर है.किसान-मजदूर सब परेशान हैं.

सम्मेलन में आन्दोलनकारियों ने भारी संख्या में भाग लिया.वहीं प्रमुख प्रवक्ताओं में योगेन्द्र राय, ललन शर्मा, बलिराम सिंह, दीपनारायण यादव,प्रो तारकेश्वर प्रसाद, प्रो कृष्ण प्रसाद सिंह,सुरेन्द्र प्रसाद, वीणा शर्मा, नसीब लाल, विमला देवी, ब्रज किशोर तिवारी आदि लोगों को पटना चलने का आह्वान किया.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.