Breaking News
June 18, 2019 - सीपी ठाकुर ने नीतीश कुमार को दी नसीहत, बीमारी आती है तब सरकार सक्रिय होती है
June 18, 2019 - जिलाध्यक्षों पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी में राजद, नए सिरे से पार्टी के गठन पर जोड़
June 18, 2019 - ‘चमकी’ बुखार पर बैठक के दौरान मैच का स्कोर पूछते दिखे स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे
June 17, 2019 - विधानसभा के लिए हम ने 35-40 सीटों पर ठोका दावा
June 17, 2019 - इंसेफेलाइटिस को लेकर नीतीश कुमार ने लिया बड़ा फैसला
June 17, 2019 - गर्मी की वजह से गया में धारा 144 लागू, स्कूलों की छुट्टियां और बढ़ी
June 17, 2019 - नीतीश कुमार पर सवाल सुन भड़क उठे मंत्री श्याम रजक
June 17, 2019 - सवर्णों पर फिर हमलावर हुई राजद
June 17, 2019 - ऐसे लोग कैसे मंत्री बन जाते है
June 15, 2019 - यूपी में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से मरीज बेहाल

देखिये कैसी रही लालू की ट्रेन यात्रा, इस दौरान क्या कहा

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

lalu prasad yadav

लालू प्रसाद को कल राजधानी एक्सप्रेस से रांची अस्पताल से एम्स इलाज के लिए ले जाया गया. पुरे सफ़र में लालू कम बातचीत करते नजर आये. जागरण के संवादाता ने उनसें बातचीत की. बातचीत से साफ़ था कि उनकी तबियत सही में में बहुत बिगड़ी हुई नजर आ रही थी. उनसें आगे की योजना के बारे में पूछा गया तो कहा ‘तबीयत जादे बिगड़ गइल बा, ठीक होके योजना बनाइब’ गोलब्लॉडर में सरसों के दाना के बराबर रांची में स्टोन हो गइल’

उन्होंने राजनीतिक मुद्दों पर भी बात करने से इंकार कर दिया. कहा इस स्थिति में नहीं हूँ कि राजनीतिक मुद्दों पर बातचीत कर सकूं. समय आने पर सबकुछ ठीक किया जाएगा. बुलंद होकर जवाब देने वाले लालू प्रसाद यादव काफी थके और बीमार नजर आ रहे थे. उनका चेहरा सूजा था. बातचीत में लड़खड़ाहट भी थी.

फिर भी इतना जरुर था कि वह अपने प्रशंसकों के सभी सवालों का जवाब दे रहे थे. सैकड़ों की संख्या में लोग हर स्टेशन पर मिलने के लिए पहुँच रहे थे. राजधानी एक्सप्रेस के फ‌र्स्ट क्लास एसी कोच में भी लालू से मिलने के लिए यात्रियों में होड़ मची रही. बगल के कोच के यात्री लगातार आते रहे. हर कोई खुद को वीआइपी बताकर लालू से मिलाने का आग्रह कर रहा था. हालांकि, सुरक्षाकर्मियों ने लालू के करीब किसी को नहीं पहुंचने दिया.

‘बड़बोलेपन में माहिर राजद प्रमुख लालू प्रसाद ट्रेन में कुछ देर चुप थे. चेहरे पर जबरन मुस्कुराहट लाने की कोशिश भी नाकाम हो रही थी. इशारों में कुछ समझाने की कोशिश करते हुए बुदबुदाए-अरे समझते नहीं हो. कोर्ट बहुत टाइट है. बोलने की मनाही है. कुछ कह दिए तो गड़बड़ हो जाएगा.’

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *