Input your search keywords and press Enter.

थाना पर सत्याग्रह आंदोलन कर नेताओं ने भरा हुंकार,कहा ताजपुर थाना बबाल कांड में निर्दोष को जेल भेज रही है पुलिस प्रशासन

समस्तीपुर(कुणाल गुप्ता)

निर्दोष लोगों को लगातार मुकदमा में फंसाने के खिलाफ आज शनिवार कों ताजपुर थाना पर सत्याग्रह आंदोलन के दौरान धरना- सभा को संबोधित करते हुए सर्वदलीय संघर्ष समिति के संयोजक सह चर्चित आंदोलनकारी सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि 19 अक्टूबर को ताजपुर थाना पर पुलिस गोलीकांड में जितेन्द्र मालाकार की मौत हुई थी.

इसके बाद पुलिस प्रशासन द्वारा मुकदमा दर्ज कर दोषी को पैसा-पैरवी पर छोड़ दिया गया एवं दर्जनों निर्दोष लोगों का नाम दर्ज कर दिया गया.
जब इस सबाल को लेकर जब स्थानीय गणमान्य लोग,जनप्रतिनिधि थाना पर वरीय पुलिस प्रशासन से मिले तो उन्होंने कहा कि विडिओ फूटेज, काँल डिटेल आदि तथ्य की जाँच कर तमाम निर्दोष लोगों का नाम हटा दिया जाएगा.लेकिन घटना के करीब 10 महीने बाद नाम हटाना तो दूर उल्टे 342/17 में बगैर ठोस सबुत के पुनः 48 लोगों का नाम धारा 302 लगाकर दर्ज कर दिया गया.

Loading...

जब वरीय पदाधिकारी ने जाँच कर पुलिस गोली से जितेन्द्र मालाकार की मौत बताया.सरकार मुआवजा भी दिया तो फिर कैसे 48 लोगों का नाम जोड़कर धारा 302 लगा दिया गया.ये पक्षपातपूर्ण कारबाई है.इसे लेकर आंदोलन जारी रहेगा.सत्याग्रह आंदोलन से पहले प्रखंड के विभिन्न ,पंचायतों से बड़ी संख्या में विभिन्न दलों के कार्यकर्ताओं ने जुलूस की शक्ल में थाना पर पहुंचकर धरना पर बैठ गये.

धरनास्थल पर सुरेंद्र प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में एक सभा का आयोजन किया गया.सभा को संबोधित गंगाधर उपाध्याय, राकेश ठाकुर, ब्रहमदेव प्रसाद सिंह, आशिफ होदा, राम कुमार, मो० अबूबकर, मुंशीलाल राय, रंधीर झा, रामप्रीत पासवान, नौशाद तौहीदी,मो० आले, बासुदेव राय,संजय शर्मा, धर्मेन्द्र पासवान, सोनिया देवी, इंदू देवी, अनीता देवी, रजिया देवी, रजनी देवी समेत अन्य गणमान्य लोगों ने संबोधित किया.5 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने सुरेंद्र प्रसाद सिंह के नेतृत्व में तैनात मजिस्ट्रेट के साथ थानाध्यक्ष समेत अन्य पदाधिकारी से मिलकर स्मार-पत्र सौपाकर तमाम निर्दोष लोगों का नाम अविलंब हटाने अन्यथा पुलिस अधीक्षक, आई जी एवं डी आई जी के समक्ष बारी-बारी से अनशन आंदोलन चलाने की घोषणा की गई.नेताओं ने घटना की वर्षी पर 19 अक्टूबर को आंदोलन चलाने का ऐलान किया.मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात थी.विदित हो कि ताजपुर थाना बबाल कांड के बाद थाना पर यह पहला कार्यक्रम था.इसे लेकर प्रशासन के साथ आमजन भी शतर्क थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.