Input your search keywords and press Enter.

बिहार के कई इलाकों में लग सकता है लॉकडाउन? स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया हाई अलर्ट

महाराष्ट्र के कई शहरों के अलावा दूसरे राज्यों में भी कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या फिर से बढ़ने लगी है। पुणे में 28 फरवरी तक स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं। पुणे के अलावा नासिक में रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है। यवतमाल, अमरावती और अचलपुर के भी कुछ इलाकों में लॉकडाउन लगाया गया है।

इन जगहों पर सख्ती के बाद बिहार में भी अलर्ट जारी हो गया है। अधिकारी कोरोना केस पर नजर रखें हैं। अधिकारियों का कहना है कि फिलहाल यहां लॉकडाउन जैसी कोई स्थिति नहीं है फिर भी हम नजर बनााए हुए हैं। लोगों को दिशा-निर्देश जारी किए जा रहे हैं। केंद्र सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन का पालन करने को कहा जा रहा है। बिहार के सभी 38 जिलों में जिलास्तर पर पूर्व से संचालित जिला स्तरीय हेल्पलाइन द्वारा चिकित्सकीय परामर्श की सहायता उपलब्ध करायी जा रही है।

24 घंटे जारी टोल फ्री हेल्पलाइन पर कोई भी व्यक्ति फोन कर महामारी से जुड़े लक्षणों के बारे में डॉक्टरों से सलाह ले सकता है। हेल्पलाइन से नजदीकी जांच व इलाज केंद्रों की जानकारी ली जा सकती है। स्वास्थ्य विभाग के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार कोरोना महामारी को लेकर उपलब्ध करायी गई सभी सुविधाएं यथावत उपलब्ध हैं। राज्य के सभी अस्पतालों में कोरोना की जांच की सुविधा नि:शुल्क उपलब्ध है। राज्य में अब मरीजों को उनके आवास से नजदीकी सरकार अस्पताल तक ले जाने के लिए नि:शुल्क एंबुलेंस की सुविधा भी उपलब्ध है।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में पिछले छह दिनों में औसतन 62 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। राज्य में वर्तमान में मात्र 536 सक्रिय संक्रमित हैं, जिनका इलाज डॉक्टरों की देखरेख में हो रहा है। वहीं, राज्य में स्वस्थ होने की दर 99.21 फीसदी है।