Breaking News
December 12, 2018 - लालू निकलना चाहते हैं बाहर
December 12, 2018 - कृषि विभाग में निकली बंपर बहाली
December 12, 2018 - महागठबंधन में यह फार्मूला आया सामने
December 12, 2018 - तेज प्रताप भी जीत से उत्साहित
December 12, 2018 - हार के अगले दिन बिहार में योगी
December 12, 2018 - बिहार से बाहर जदयू के सभी प्रयासों का हुआ बुरा हाल
December 12, 2018 - महागठबंधन में बड़े भाई और छोटे भाई पर बिगड़ी बात
December 12, 2018 - लोस के शीत सत्र में सुपौल की कांग्रेस सांसद ने इन मुद्दों को ले दी स्थगन प्रस्ताव नोटिस
December 12, 2018 - वसुंधरा राजे सरकार के 30 में से 20 मंत्री चुनाव हार गए, बेटे को टिकट दिलवाया वो भी हार गये
December 11, 2018 - मुख्यमंत्री ने समाजवादी नेता स्व0 राम अवधेष चैधरी के श्राद्धकर्म में भाग लिया

माधव आनंद ने विकल्प को लेकर बढ़ाया सस्पेंस

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

बगहा के बाद अब मोतिहारी पर सभी राजनीतिक पार्टियों की नज़रे टिकी हुई है. दरअसल, एनडीए के मुख्य घटक दल में से गुरुवार को एनडीए से अलग होने जा रही है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा इस बात का ऐलान गुरुवार को मोतिहारी में होने वाले खुले अधिवेशन में करेंगे. साथ ही कुशवाहा के नए समीकरण को लेकर प्रदेश में चर्चाएँ खूब हो रही हैं. इसे ही लेकर सभी कुशवाहा की ऐलान की इंतजार कर रहे हैं.

रालोसपा के इस अधिवेशन को लेकर यह उम्मीदें और भी बढ़ गयी है कि एनडीए को बाय बोलने के साथ ही महागठबंधन में शामिल होने का ऐलान भी करेंगे. यह कोई और नहीं बल्कि यह पार्टी महासचिव एवं प्रवक्ता माधव आनंद ने इस बात के संकेत दिए हैं.

उन्होंने कहा कि एनडीए में रहने के लिए अनुकूल स्थिति नहीं है इस कारण पार्टी को ये फैसला लेना पड़ा है. उन्होंने थर्ड फ्रंट की संभावनाओं को खारिज करते हुए कहा कि केन्द्र के सत्ता संघर्ष में दो ही विकल्प है, या तो एनडीए या फिर यूपीए.

बता दें कि वाल्मीकिनगर में हुए दो दिनों के चिंतन शिविर में पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने अंतिम फैसला लेने का अधिकार राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा को सौंपा दिया हैं. इसमें राष्ट्रीय पदाधिकारी, प्रदेश पदाधिकारी एवं जिला स्तर के पदाधिकारी भी निर्णय प्रक्रिया में शामिल रहे है. इससे पहले कुशवाहा ने जदयू के बाद अब बीजेपी पर भी हमला बोला है. ऐसे में अब कुशवाहा के द्वारा अब सिर्फ अधिकारिक घोषणा करना बाकी रह गया.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles