Breaking News
November 20, 2018 - मंजू वर्मा के अधिवक्ता ने बताया क्यों नहीं कर पा रही थी सरेंडर
November 20, 2018 - अरवल:कलेर प्रखण्ड़ मे मुखिया के मनमानी से वाड़ॅ सदस्य त्रस्त, वाड़ॅ सदस्य के अधिकार के लिए खाडा उतरे वाड़ॅ सदस्य जिला संरक्षक मनोज सिंह यादव
November 20, 2018 - नीतीश कैबिनेट में विधायकों के वेतन भत्ते पर लगी मुहर
November 20, 2018 - मंत्री मंजू वर्मा ने शातिर तरीके से किया सरेंडर
November 19, 2018 - जहानाबाद गांधी मैदान से भाजपा के खिलाफ आर-पाार की लड़ाई होगी, दीपंकर ने किया ऐलान
November 19, 2018 - अरवल : डीएम ने जिला स्तरीय समीक्षात्मक बैठक कर दिए कई निर्देश
November 19, 2018 - कुशवाहा के जाने से हो जाएगी लोजपा की बल्ले-बल्ले
November 19, 2018 - नीतीश के वजह से एनडीए में नहीं है आदर्श स्थिति
November 19, 2018 - राम मंदिर निर्माण पर 25 को अयोध्या में बवाल, बीजेपी और आरएसएस बना रही पसीना
November 19, 2018 - नीतीश के सपोर्ट में खड़ा हुए जदयू के धुरंधर, अकेले मुकाबला कर रहे तेजस्वी

दलित वोट न बंटे इसके लिए यह उपाय करेंगी मायावती

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

mayawati

चुनाव के समय सभी जातीय समीकरण बनाने में व्यस्त हो जाते है और इसका एक सबसे बड़ा कारन है कि लोग जाट-पात उलझन में आज भी बंटे है. बीजेपी के एससी-एसटी कार्ड और वोटों के ध्रुवीकरण की चिंता अब मायावती को सताने लगी है. मायावती चाहती है कि उनके तथाकथित वोट बैंक में कोई सेंध न लग सके. इसके लिए बसपा सुप्रीमो मायावती ने तैयारी शुरू कर दी है.

मायावती ने बसपा कार्यकर्ता की एक फ़ौज बनाई है जो घर-घर जाकर बीजेपी सरकारों में दलित उत्पीड़न की कहानी तथ्यों के साथ बताएंगे. मायावती के निर्देश पर टीमों का गठन भी हो गया है. भीमा कोरेगांव, रोहित वेमुला से लेकर यूपी में हुए तमाम घटनाओं के लेकर पर्चे और किताब भी छपवाए जा रहे हैं.

दरअसल, बीजेपी के हिंदुत्व के एजेंडे को देखते हुए बसपा ने दलितों के उत्पीड़न के मुद्दे को लोकसभा चुनाव में व्यापक तौर पर उठाने की योजना तैयार की है. बसपा नेताओं का मानना है कि लोकसभा चुनाव आते-आते बीजेपी सभी हिंदुओं को अपने साथ लाने के लिए दलितों को किसी भी तरह अपने साथ लाने की कोशिश करेगी. इसकी शुरुआत केंद्र की मोदी सरकार ने संसद के जरिए एससी/एसटी का नया कानून बनाकर कर भी दी है. बीएसपी नेताओं को यह भी आशंका है कि बीजेपी दलितों को अपने साथ लाने के लिए कई और तरीके भी अपना सकती है.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles