Breaking News
November 17, 2018 - सी एच फिल्म एंड म्यूजिक प्राइवेट लिमिटेड के द्वारा आयोजित कार्यक्रम में महुआ चैनल कलर्स राइजिंग स्टार इशरत जहां के गीतों पर पूरी रात श्रद्धालु झूमते और नाचते रहे।
November 17, 2018 - अरवल : शहर तेलपा में संस्कृति कार्यक्रम आयोजित। इस मौके पर एसडीएम ने कहा सांस्कृतिक कार्यक्रमों से मिलता है प्रेम भाईचारा को सम्बल
November 17, 2018 - लालू यादव की सेहत हुई खराब, राजद ने PM मोदी और नीतीश को बताया जिम्मेदार
November 17, 2018 - RLSP पर इस विधायक ने ठोका दावा
November 17, 2018 - 42वें चीफ जस्टिस बने एपी शाही, राज्यपाल ने दिलाया शपथ
November 17, 2018 - महज कुछ घंटों में कुशवाहा करेंगे बड़ा ऐलान
November 17, 2018 - नीतीश कैबिनेट की बैठक में दो बड़े ऐलान
November 17, 2018 - आज उपेंद्र कुशवाहा जायेंगे महागठबंधन में?
November 16, 2018 - तेजस्वी यादव ने सीबीआई और सुशील मोदी के बीच सांठगांठ की खोली पोल
November 16, 2018 - तेज प्रताप को बुलाने के लिए माँ ने की अपील

बेगूसराय मॉब लिंचिंग मामले में NHRC ने मुख्य सचिव और डीजीपी को नोटिस भेज मांगा जवाब

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

बेगुसराय जिले हुई मॉब लिंचिंग की घटना पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने स्वतः संज्ञान लिया है. इस मॉब लिंचिंग के घटना पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने बिहार के मुख्य सचिव और डीजीपी को नोटिस भेजा है. साथ ही 6 हफ्तों में रिपोर्ट पेश करने को कहा है.

दरअसल, आयोग का कहना है कि बिहार के बेगूसराय जिले में भीड़ ने तीन अपराधियों की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी. वहीं, पुलिस ने इस मामले में अब तक कोई बड़ी कार्रवाई नहीं कर पाई है. आयोग ने सरकार को भी इस तरह की घटना को रोकने को कहा है. वहीं, बेगूसराय के मामले में भी कार्रवाई कर 6 हफ्तों में रिपोर्ट पेश करने को कहा है.

इतना ही नहीं बेगुसराय के इस घटने पर आयोग ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा है कि कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार किसी को नहीं है. मालूम हो कि बेगूसराय जिले के छौड़ाही थाना क्षेत्र के नारायण पीपर गांव में ग्रामीणों ने बीते शुक्रवार (7 सितंबर) को तीन अपराधियों की जम कर पिटाई की थी. जिससे एक की मौत घटनास्स्थल पर ही हो गयी थी़ जबकि, दो अन्य अपराधियों की मौत इलाज के दौरान अस्पताल में हुई थी.

वहीं, इस मामले में बेगूसराय के पुलिस अधीक्षक आदित्य कुमार ने थाना प्रभारी सिंटू झा को निलंबित कर दिया गया. निलंबित करने की वजह मीडिया में बताया गया था कि मामले में थाना प्रभारी की लापरवाही देखी गयी है. जिसके वजह से उन्हें निलंबित किया गया है. इससे पहले इस मामले मे एडीजी मुख्यालय एस के सिंघल ने बड़ा बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि बेगूसराय की घटना मॉब लिचिंग नहीं है. लोगों ने सेल्फ डिफेंस में ये कदम उठाया है.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles