Input your search keywords and press Enter.

बोधगया को आध्यात्मिक राजधानी बनायेंगे मोदी

modi-bodhgaya-speech

बोध गया.
बौद्ध धर्म के पावन स्थल के दो घंटों के दौरे पर आज बोधगया आये प्रधानमंत्री ने इस जगह को आध्यात्मिक राजधानी के रूप में विकसित करने की बात कही है ताकि यह भारत और बौद्ध जगत के बीच सांस्कृतिक रिश्ते के रूप में स्थापित हो सके. मोदी ने आज बोधि वृक्ष ने नीचे बैठकर ध्यान लगाया जहाँ भगवान बुद्ध ने ध्यान लगाया था और उन्हें ज्ञान की प्राप्ती हुई थी.

पीएम ने महाबोधि मंदिर का दौरा करने के बाद यहां हो रहे अंतरराष्ट्रीय हिंदू-बौद्ध सम्मेलन को संबोधित किया. सभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि, ‘कुछ कट्टर लोग जबरन अपनी विचारधारा थोपते हैं. इससे अशांति फैलती है. हिंदू-बौद्ध समाज टकराव का पक्षधर नहीं है. दोनों शांति के रास्ते पर चलने की नसीहत देते हैं. ये दोनों दुनिया में शांति और सद्भाव का दर्शन फैलाते हैं.’ उन्होंने बोधगया को मानवता के सेवा की भूमि बताते हुए कहा कि, ‘यहां आकर बहुत खुशी हो रही है. नेहरू और वाजपेयी के बाद यहां आया हूं. शिक्षक दिवस और जन्माष्टमी के दिन हुआ यह आयोजन और ज्यादा अहम हो गया है.’

मोदी ने शिक्षक दिवस और कृष्ण जन्माष्टमी के एक साथ होने को शुभ संकेत बताया. उन्होंने भगवान कृष्ण और गौतम बुद्ध को महान टीचर कहा. उन्होंने कहा कि, ‘कृष्ण और बुद्ध, दोनों ने सिद्धांतों को अहमियत दी. श्रीकृष्ण ने कर्मयोग और समानता सिखाई. बुद्ध ने इसे दुनिया में फैलाया. भगवान कृष्ण और गौतम बुद्ध, दोनों ने दुनिया को बहुत कुछ दिया है. भारत में हिंदुवाद का यह गुण कई महान आध्यात्मिक गुरूओं की उपज है और बुद्ध उनमें सबसे प्रमुख हैं. और यही बात है जो भारत के धर्मनिरपेक्ष चरित्र को बनाए रखती है.’

Loading...

पीएम मोदी ने आगे कहा कि, ‘दुनिया आज बुद्ध की ओर देख रही है. पर्यावरण की समस्या को गौतम बुद्ध की शिक्षा से दूर नहीं किया जा सकता है. झगड़े मिटाने के लिए बुद्ध का ही सहारा है. हिंदू धर्म पर बुद्ध का असर है. बुद्ध धर्म से ऊपर मानवता को मानते थे. भारत में सेक्युलर ढांचा डेवलप करने में बुद्ध की भूमिका रही है. हम बोधगया को दुनिया में बौद्ध लोगों की आध्यात्मिक राजधानी बनाना चाहते हैं.’

MODI-BODHGAYA

बोधि वृक्ष के नीचे ध्यान लगाते मोदी

इससे पहले प्रधानमंत्री ने बोधिवृक्ष के नीचे दीप जलाया और मेडिटेशन सेशन में हिस्सा लिया. इस अवसर पर उनके साथ केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री किरण रिजिजू भी मौजूद थे. गया एयरपोर्ट पर पीएम का सवगत राज्यपाल रामनाथ कोविंद के साथ बिहार सरकार के मंत्री श्याम रजक ने किया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पीएम के स्वागत के लिए नहीं गए थे. इनलोगों के साथ भाजपा नेता सुशील मोदी और नंदकिशोर यादव भी प्रधानमंत्री का स्वागत करने एयरपोर्ट पहुंचे थे.

(based on bhasha/bhaskar.com stories.Photos:ANI)

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.