Input your search keywords and press Enter.

वैदिक मंत्रोच्चार के साथ राजगीर मलमास मेला का समापन, 65 लाख से अधिक श्रद्धाओं ने 22 कुंड के 52 धाराओं में लगाई डुबकी

डीबीएन न्यूज/नालन्दा(डीएसपी सिंह)-वैदिक मंत्रोच्चार के साथ तीर्थ पुरोहितों द्वारा पंडा कमेटी अध्यक्ष डॉ. अवधेश उपाध्याय की अध्यक्षता में तीर्थ पुरोहितों द्वारा सैंकड़ों श्रद्धालुओं की मौजूदगी में पुरुषोत्तम मास का ध्वज उखाड़ा गया.

तीर्थ पुरोहितों द्वारा सुबह एक घंटे तक चले वैदिक मंत्रोच्चार व हवन कर एक माह तक चलने वाले पुरुषोत्तम मास के ध्वज को डोलाकर उखाड़ा गया. ऐसी मान्यता है कि ध्वज के डोलने के साथ ही समस्त कोने से आये हुए सभी तैंतीस कोटि देवी-देवता अपने निवास स्थान(गतंव्य) को वापस लौट गए.


Widget not in any sidebars

अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा के राष्ट्रीय मंत्री डॉ. धीरेन्द्र उपाध्याय ने बताया कि वेदों के मंत्रोच्चार कर सभी देवी-देवताओं से अपने-अपने गंतव्य स्थान पर निवास करने को प्रतिष्ठान हो जाने के लिए अनुनय-विनय किया गया और साथ ही अगले मेला में आने के लिए भी निवेदन किया गया. देवता अपने गंतव्य को प्रस्थान कर गए.

इस पुरुषोत्तम मास मेले की शुरुआत 16 मई को हुई थी. इस पूरे मेले में देश-विदेश से आये हुए 65 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने यहां के 22 कुंड व 52 धाराओं में स्नान कर श्रद्धा की डुबकी लगायी. पंडा कमेटी के अध्यक्ष डॉ. अवधेश उपाध्याय ने बताया कि मेला का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया था.

Loading...

वहीं मेले के ध्वजारोहण सिमरिया घाट के संत स्वामी चिदात्मन जी महाराज उर्फ फलाहारी बाबा ने किया था. मेला के दौरान चार शाही स्नान हुए जिसमें भारी संख्या में साधु-संतों के साथ आम श्रद्धालुओं ने यहां के कुंड में डुबकी लगायी. पंडा कमेटी के प्रवक्ता सुधीर कुमार उपाध्याय ने कहा कि मेले को राजकीय मेला का दर्जा देकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजगीर तीर्थ पुरोहितों के मान को बढ़ाया है.यह पूरे राजगीर ही नहीं बिहार के लिए गौरव की बात है कि सनातन धर्म के इस मेले को मुख्यमंत्री ने राजकीय मेला का दर्जा दिया.

राजकीय मेला होने से मेले में आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए काफी सुविधाएं बढ़ायी गयी.लोगों को कोई परेशानी न हो इसका पूरा ख्याल रखा गया. पंडा कमेटी के पूर्व अध्यक्ष ब्रजनंदन उपाध्याय ने कहा कि पूरे मेले में प्रशासन व पुलिस की सराहनीय भूमिका रही. उन्होंने कहा कि इस बार काफी भीड़ देखने को मिली.

मेला के ध्वज उखड़ने के बाद तीर्थ पुरोहितों द्वारा ब्रह्मकुंड परिसर में भंडार का आयोजन किया गया. इसमें प्रशासन, पुलिस, स्वयं सेवी संस्थानों के सदस्यों और स्थानीय बुद्धिजीवियों के साथ तीर्थ पुरोहितों व श्रद्धालुओं ने भाग लिया.

इस मौके पर पंडा कमेटी के अध्यक्ष डॉ. अवधेश उपाध्याय, सचिव विकास उपाध्याय, अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा के राष्ट्रीय मंत्री डॉ. धीरेन्द्र उपाध्याय, प्रवक्ता सुधीर कुमार उपाध्याय, स्टेशन प्रबंधक मंतोष कुमार मिश्रा, दीनानाथ उपाध्याय, बाल्मिकी उपाध्याय, जीतेन्द्र उपाध्याय, प्रमेन्द्र उपाध्याय, सर्वजीत उपासक, जीतु उपाध्याय सहित अन्य तीर्थ पुरोहित मौजूद थे.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.