Input your search keywords and press Enter.

सत्ताधारियों के शेल्टर होम में बच्चियों से बलात्कार ने ‘बेटी बचाओ’ के नारे को भी जुमला बना दिया : अखिलेश यादव


मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौनाचार मामले में सियासत तेज हो गयी हैं. इसे लेकर अब पूरे देश में आवाज़ गूंजने लगी हैं. वहीं, आज तेजस्वी दिल्ली में धरना और कैंडल मार्च निकलने वाले हैं. इसमें विपक्ष के कई बड़े दिग्गज शामिल हो रहे हैं. आशंका जाहिर कि जा रही है कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी सरिक होंगे.

धरने में शामिल हो न हो अखिलेश यादव ने पहले ही केंद्र और राज्य की सरकार पर निशाना साध ट्वीट किया हैं और लिखा है कि “बिहार के सत्ताधारियों के शेल्टर होम में बच्चियों से बलात्कार ने ‘बेटी बचाओ’ के नारे को भी जुमला बना दिया है. अब तो इनके समर्थक भी विरोध में हैं और ये सोचकर ‘शर्मसार’ भी कि वो अब तक कैसे लोगों का साथ दे रहे थे. जेडीयू-भाजपा की सरकार को नैतिकता के नाम पर तुरंत इस्तीफ़ा देना चाहिए.”

Loading...

बता दें कि बिहार के मुजफ्फरपुर बालिकागृह की 42 में से 34 नाबालिग बच्चियों के साथ नियमित रूप से रेप करने की बात की पुष्टि हो चुकी है. इस गृह का संचालक सत्ताधारी पार्टियों के रसूखदार नेताओं का करीबी है. उसके खिलाफ बिहार सरकार ने महीने भर तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं किया.

इतना ही नहीं जिस दिन संचालक ब्रजेश ठाकुर के खिलाफ एफआईआर हुआ उस दिन भी सरकार ने महिला कल्याण के नाम पर उसे एक ठेका दिया. गरीब और बेबस बच्चियों के साथ इस जघन्य अपराध के खिलाफ तेजस्वी का आज कैंडल मार्च हैं. तेजस्वी ने पहले ही यह बता चुके हैं कि यह मार्च किसी भी प्रकार से राजनीतिक नहीं हैं. साथ ही उन्होंने सभी लोगों से मार्च में शामिल होने की अपील भी की हैं.