Input your search keywords and press Enter.

रोहिणी आचार्य की दुआ आई काम, लालू की रिहाई के लिए रखी थी रोजा

लालू प्रसाद यादव को झारखंड हाई कोर्ट ने जमानत दे दी है. लालू यादव अब जेल से बाहर आने वाले हैं. लालू को बेल मिलते ही उनके परिवार में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है. सबसे ज्यादा उनकी बेटी रोहिणी आचार्य उत्साहित हैं. उन्होंने अपने पिता को शेर बताया है. लालू की रिहाई के लिए रमज़ान और नवरात्र कर रही रोहिणी ने कहा है कि उनकी पूजा सफल हो गई है. लालू को बेल मिलने के बाद रोहिणी आचार्य ने विरोधियों पर भी निशाना साधा है.

रोहिणी ने कहा कि “देखो-देखो शेर आया- शेर आया” ज़हरीली परवरिश वालों का मुँह काला हुआ.” रोहिणी ने आगे लिखा है कि “अन्यायी कब तक अन्याय करेगा.. मसीहा को कब तक कैद रखेगा..? आया आया देखों कौन..? तानाशाह सत्ता से वो लड़कर..! गरीबों का मसीहा आया.. इस माटी का लाल जो आया!!” इस मामले को लेकर पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा की आज जमानत पर उनकी रिहाई के लिए परिवार के जो सदस्य व्रत और रोजा, दोनों रखने करने की बात कर रहे हैं, वे दरअसल किसी भी उपासना पद्धति के प्रति ईमानदार नहीं हैं. उससे कुछ होने वाला नहीं.

लालू परिवार सत्ता और सम्पत्ति के लिए ईश्वर- छठी मइया और अल्ला को भी धोखा देने की कोशिश करता रहा है. सुशील कुमार मोदी के इस बयान पर पलटवार करते हुए रोहिणी आचार्य ने कहा की हमको ब्रत और रोजा पर ईश्वर अल्लाह को धोखा देने की बात वही नाकाम व्यक्ति कर रहा है. जो ना ठीक से बिहारी हुआ, ना ही राजस्थानी! इस चुनाव में भी बुरा हाल हो गया! ना घर का रहा, ना घाट का! एक बात बताइये आपकी पत्नी मंदिर जाकर पूजा करती हैं. हिन्दू धर्म पर ज्ञान दे रहे. खुद ईसाई से शादी किये.

वहीं दूसरी ओर लालू यादव को चाहने वाले उनके समर्थक लिख रहे हैं कि “सजा दो घर को गुलशन सा, मेरे सरकार आये हैं” लालू यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव की भी प्रतिक्रिया सामने आई है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “गरीबों, वंचितों, पिछड़ों का रहनुमा आ रहा है. बता दो अन्याय करने वालों को की हमारा नेता आ रहा है.”