Input your search keywords and press Enter.

शत्रुघन सिन्हा को मिलने लगी बधाई

JD-U-AJAY-ALOK

file photo

शत्रुघन सिन्हा पर इससे पहले मैंने एक और ब्लॉग लिखा था जिसमें सवाल पूछा था कि क्या शत्रुघन सिन्हा होंगे राजद में शामिल. यह ब्लॉग शत्रुघन सिन्हा और लालू प्रसाद यादव तथा तेजस्वी यादव की मुलाकात तथा उसके बाद तारीफ पर आधारित थी. मैंने तो सवाल पूछा था लेकिन शत्रुघन सिन्हा को तो जदयू से बधाई आने शुरू हो गये है.

जदयू प्रवक्ता अजय अलोक ने कहा कि पहले शरद यादव अब शत्रुघन !! अपने विनाश के पहले सबको लालू जी की याद क्यों आती हैं ?? समझ से बाहर हैं लेकिन लगता हैं राजनीतिक मोक्ष वाराणसी की तरह लालू जी हो गए हैं. बधाई मेरी तरफ़ से…

पढ़ें क्या थी ब्लॉग

शत्रुघन सिन्हा और राजद की नजदीकियां बढ़ती ही जा रही हैं. पिछले एक सप्ताह से तो तीन बार शत्रुघन सिन्हा तेजस्वी यादव के नेतृत्व की तारीफ कर चुकें है. उन्होंने तेजस्वी से मुलाकात के तेजस्वी यादव की तुलना राकांपा प्रमुख शरद पवार से की है. तेजस्वी की तारीफ़ में इतनी कम उम्र होने के बावजूद वे जिस विनम्रता से बातें करते हैं और हर चीज को पूरी दृढ़ता के साथ पेश करते हैं.

Loading...

अगले चुनाव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव के बीच सीधी टक्कर के सवाल पर उन्होंने कहा कि तेजस्वी किसको टक्कर देंगे, इस बारे में वह नहीं कह सकते. लेकिन, उनमें टक्कर देने की पूरी काबलियत और क्षमता है. उन्होंने तेजस्वी यादव की जमकर प्रशंसा करते हुए कहा कि उसके अन्दर सूझ-बूझ और परिपक्वता है. तेजस्वी में शरद पवार के सारे गुण नजर आते हैं.
tejaswi yadav shtrudhan sinha
बिहार दिवस के दौरान नीतीश सरकार द्वारा नहीं बुलाये जाने पर नाराजगी जताते हुए शत्रुघ्न ने कहा कि इसके कारणों के बारे में सभी को पता है.

इसके पहले जब लालू प्रसाद यादव को 14 साल की सजा मिली थी तो उन्होंने रिम्स अस्पताल जाकर उनसें मुलाकात की थी. इस मौके पर उन्होंने राजद सुप्रीमों की जमकर प्रशंसा भी की है. सिन्हा ने कहा कि जनता का आशीर्वाद लालू के साथ है और जल्द ही उन्हें इंसाफ मिलेगा. लालू प्रसाद से मिलने के बाद शत्रु ने कहा कि लालू प्रसाद जमीन से जुड़े नेता हैं. हमारा घनिष्ठ संबंध रहा है, हमलोग परिवार जैसे हैं.

अब सवाल यही है कि क्या यह नजदीकियां 2019 से पहले फैसले में बदलेगी. तो मेरा मानना है हां. शत्रु को अब लग गया है कि 2019 की टिकट उन्हें बीजेपी से नहीं मिलने वाली शायद यही वजह हैं कि अब वह राजद के करीब जा रहे है. लालू प्रसाद यादव से मुलाकात के बाद तेजस्वी यादव से मुलाकात और तारीफ सबकुछ साफ़ कर रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.