Input your search keywords and press Enter.

ब्रजेश ठाकुर के एक और शेल्टर होम का खुलासा, जांच में मिले शराब की बोतलें व आपत्तिजनक सामान

मुजफ्फरपुर बालिका गृह के बाद लगातार कई एक खुलासे होते जा रहे है. इसी कड़ी में पुलिस ने अब ब्रजेश ठाकुर के एक अन्य आश्रय गृह, स्‍वाधार गृह का ताला खोला और पूरे मकान की जांच की. ब्रजेश ठाकुर के स्वाधार गृह से भारी मात्रा में कंडोम और शराब की बोतलें मिली है. एफएसएल टीम ने ये सभी समानें शेल्टर होम की छत से बरामद की गई है. साथ ही एफएसएल जांच टीम का कहना है कि और भी अन्य आपत्तिजनक सामान मिले हैं.

मालूम हो कि स्वाधार गृह पर भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद है और पूरे परिसर की तलाशी की जा रही है. एफएसएल की छह सदस्यीय टीम ने चार कमरों के ताले को तोड़ा तो ये सारी चीजें बरामद की हैं. मौके पर एफएसएल टीम के साथ महिला थानाध्यक्ष ज्योति कुमारी और इस केस की आईओ कलावती कुमारी भी मौजूद थीं. बता दें कि बालिका आश्रय गृह की लड़कियों से यौन शोषण का मामला प्रकाश में आने के बाद आनन-फानन में ब्रजेश ठाकुर की स्‍वयंसेवी संस्‍था ‘सेवा संकल्प’ द्वारा असहाय महिलाओं के लिए संचालित स्वाधार केंद्र को बंद कर दिया गया था. जब्त कागजात की समीक्षा से पता चला कि यहां से 11 महिलाएं गायब हैं.

Loading...

सहायक निदेशक ने बताया कि स्वधार गृह में परिवार से अलग हो चुकी महिलाएं रहती थीं. ऐसी महिलाओं को स्वधार गृह में रोजगार का प्रशिक्षण भी दिया जाता था. ब्रजेश ठाकुर के एनजीओ को मुज़फ़्फ़रपुर में कुल पांच शेल्टर होम चलाने की ज़िम्मेदारी दी गई थी. जिनमें से एक स्वाधार गृह भी था. स्वाधार गृह केंद्र सरकार की ओर से चलाई जाने वाली योजना है जिसमें बेघर महिलाओं को स्वावलम्बी बनाने के लिए व्यावसायिक प्रशिक्षण दिया जाता है.

इससे पहले, ब्रजेश ठाकुर के संरक्षण में चलने वाले मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह से 34 लड़कियों से दुष्कर्म की पुष्टि हो चुकी है. यह पूरा मामला तब प्रकाश में आया, जब टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंस (TISS) की ऑडिट रिपोर्ट सामने आई. 31 मई को बिहार सरकार को सौंपी गई. इस रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि कैसे इन बालिका गृह में छोटी-छोटी बच्चियों का शोषण किया जाता रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.