Input your search keywords and press Enter.

सांसद पप्पू यादव पर हमला को लेकर : SSP हर्पित कौर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर किया बड़ा खुलासा


डीबीएन न्यूज़ मुजफ्फरपुर (रूपेश कुमार) :- 6 सितंबर को सांसद पप्पू यादव पर मुज़फ़्फ़रपुर में हलमा हुआ या नही ये तो वो खुद बता सकते है . लेकिन इस घटना के बाद सांसद पप्पू यादव ने मुज़फ़्फ़रपुर एसपी हर्पित कौर पर कई तरह के इल्जाम लगाए .

मामला :- दरअसल 6 सितंबर को भारत बंद के दौरान सांसद पप्पू यादव को मुज़फ़्फ़रपुर में सुरक्षा बल नही देने को लेकर व हमला करने वाले बंद समर्थकों पे पुलिस द्वारा कोई करवाई नही करने पर . सांसद पप्पू यादव ने मुजफ्फरपुर एसपी हर्पित कौर पर व्यक्तिगत टिप्पणी व केस दर्ज करने की बात कही . सांसद द्वारा टिप्पणी को लेकर रविवार देर शाम एसपी हर्पित कौर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाया.

“प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एसपी हर्पित कौर ने बताया कि 6 सितंबर को भारत बंदी के दिन सांसद पप्पू यादव जी का कोई भी कार्यक्रम मुजफ्फरपुर में प्रस्तावित नही था . मुख्यालय से मिले आदेश के बारे में एसपी हर्पित कौर ने कहा कि 6 सितंबर को सुबह से रात तक उनका कार्यक्रम मधुबनी जिले में था . अगर उन्हें भारत बंद के दिन मुजफ्फरपुर में आना था तो सुरक्षा के लिए उनको या उनके पार्टी को लिखित या मौखिक सूचना मुजफ्फरपुर प्रसाशन को देनी चाहिए थी “.

Loading...

एसपी हर्पित कौर ने कहा कि घटना के बारे में पता चलते ही सांसद पप्पू यादव जी से मेरी बातचीत हुई व आईजी साहेब से भी बात हुई थी . उसके बाद हमने डीएसपी टाउन के साथ पुलिस बल को भेज के सांसद जी को तुरंत सुरक्षा मुहैया करवाया था . जिसका की ऑन रिकॉर्ड है .

“एसपी कौर ने कहा कि बंदी के दिन मुज़फ़्फ़रपुर के खबरा में बंद समर्थक और सांसद जी का सोशल मीडिया पे जो वीडियो मिला था . उससे तो साफ जाहिर होता है कि सांसद पप्पू यादव पे कोई हमला नही हुआ था . क्योंकि वो उस वीडियो में समर्थकों से बातचीत करते व उनके बीच खड़े दिखाई दिए . अगर उनके कथना अनुसार उनपे हमला हुआ . जिसमें की सांसद जी का मोबाईल व गाड़ी छतिग्रस्त हो गया था . तो उन्हें मीडिया में छतिग्रस्त समानों को दिखना चाहिए था . पारदर्शी के रूप में पुलिस को देना चाहिए था . या उन्हें एफआईआर दर्ज करवाना चाहिए था “.

“एसपी कौर ने कहा कि पुलिस पहले किसी भी घटना के तथ्य को देखती है. उसके बाद दोषी पर करवाई करना होता है . इसी को लेकर हमने सांसद पप्पू यादव जी से हमला सम्बन्धी सबूत मांगा था . क्योंकि पुलिस सबूत के आधार पे काम करती है न कि दलील के आधार पे . अब अगर किसी हमले का सबूत मांगा तो इसमें गलत क्या है . सांसद जी को हमले के बाद एफआईआर भी तो करवानी चाहिए थी . ताकि दोषी पर करवाई किया जाता “.

एसपी हर्पित कौर ने सांसद पप्पू यादव जी के पद-यात्रा को सराहा और कहा कि “सांसद जी ने महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पद-यात्रा मोहिम शुरू कर रखे है . जिसमे की नारी की समान को बढ़ावा देना है . कौर ने कहा कि ऐसे में किसी महिला ऑफिसर पे अमर्यादित टिप्पणी करना सही है .

आखिर में एसपी कौर ने कहा कि ये प्रेस वार्ता किसी को गलत या सही ठहराने के लिए नही है . अगर सांसद जी के ऊपर कोई हमला हुआ था . तो पुलिस को कोई सबूत देना चाहिए था या एफआईआर दर्ज भी करवानी चाहिए थी .

Leave a Reply

Your email address will not be published.