Input your search keywords and press Enter.

बिहार के छात्रों के नाम मेरा खुला खत, पढ़ें और शेयर करें…

sad-students

sad-students


ब्लॉग.पर्बिंद कुमार. यह बहुत ही शर्मनाक है कि हमारे बिहार में विधायक और मंत्री जो की संवैधानिक पदों पर बैठे है वह सामाजिक जीवन में किसी छात्र का सीधे पैरवी करने की बात को सही ठहराते है. ये हम बिहारियों को समझ लेना होगा कि सत्ता और सता के बहार के लोग भी अपने पॉवर और प्रभुत्व के बल पर अपने खास लोगों को जॉब दिलवाते रहते है. बिहार में मेहनत करने से कुछ ही लोगो को जॉब लगती है बाकीयों को सेटिंग और पैरवी से लग जाती है.

बिहार में डिग्री, टॉपर और नौकरी लेने के लिए पैसे, पॉवर और पैरवी की जरुरत पड़ती है शायद यही कारन है कि हजारों लड़के लाख मेहनत करने के वावजूद बेरोजगार हो जाते है. कुछ खुलासे मीडिया की वजह से हो पाये है और इन खुलासों से तो यही लगता है कि पता नहीं कितने परीक्षाओं में पैसे, सेटिंग और पैरवी के आधार पर बहाली हुई होगी. फिर भी हमारी नीतीश सरकार अच्छा काम कर रही है. यहाँ हमें दुसरे राज्यों को देखने की जरुरत नहीं है हमें केवल बिहार के बारे सोचना चाहिए.

Loading...

मीडिया द्वारा बीएसएससी मामले को उजागर किया गया फिर सरकार ने जाँच एसआईटी को सौपी, एसआईटी ने कई खुलासे अवश्य किये लेकिन क्या सरकार के मंत्री और विधायकों के नाम आने पर उस निष्पक्ष जाँच की उम्मीद रखते है..सरकार के सिपाही सरकार की जाँच करेंगे जिन्हें वो खुद रिपोर्ट करते है..बिहार में बदलाव लाने के लिए भष्टाचार मुक्त शिक्षा व्यवस्था बनाना होगा. मैं सरकार से सीबीआई जाँच की मांग करता हूँ और आप?

[shareaholic app=”recommendations” id=”18820568″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.