Input your search keywords and press Enter.

बलपूर्वक बंगला खाली करवाने के फैसले पर छलका तेजस्वी यादव का दर्द, सरकार हमको…

file photo

न्यूज़ डेस्क: बिहार में सरकारी बंगले को लेकर एक बार फिर सियासत तेज हो गयी है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव एक बार फिर से परेशानी में घिर गए हैं. पटना जिला प्रशासन को भवन निर्माण विभाग ने पत्र लिखकर पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव का बंगला बलपूर्वक खाली कराने का पत्र जारी किया है. नेता प्रतिपक्ष के इस बंगले को खाली कराने के इस आदेश पर बवाल मच गया है.

इस मामले में खुद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बड़ा बयान दिया है. बंगला खाली कराने को लेकर तेजस्वी दर्द भी छलका है उन्होंने कहा है कि सरकार हमको नेता प्रतिपक्ष नहीं मानती है. उनका कहना है कि आज तक मेरे किसी सवाल का जवाब नहीं दिया गया है. अब तो यहाँ गलत राजनीति शुरू हो गई है. मुझे पूर्व मंत्री के नाम से पत्र भेजा जाता है. तेजस्वी यादव ने अपना तर्क देते हुए कहा है कि 5 नंबर बंगला सुशील मोदी के नाम पर आवंटित किया गया, लेकिन बंगला खाली हुआ नहीं तो आवंटन कैसे हो गया, सुशील मोदी 5 नंबर बंगले में आने के लिए बेताब हैं, मुझे परेशान किया जा रहा…सरकार मुझे नेता विपक्ष मानती ही नहीं.

Loading...

गौरतलब है कि पूर्व मंत्रियों के आवास को बल पूर्वक खाली कराने को लेकर भवन निर्माण विभाग ने पटना के एसपी आैर डीएम को पत्र लिखा है उसमें नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव के ससुर पूर्व मंत्री चंद्रिका राय का आवास जो 5 सर्कुलर रोड में निवास कर रहे हैं. 25 हार्डिंग रोड को पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीकी से खाली कराया जाना है. शिवचन्द्र राम से 12 स्ट्रैंड रोड, पूर्व मंत्री चन्द्रशेखर से 16/ए बेली रोड , आलोक मेहता से 6 स्ट्रैंड रोड खाली कराने कराने के आदेश दिये गये हैं.

हालांकि इस मामले में जिलाधिकारी कुमार रवि ने कहा कि बंगला कब खाली कराना है इसकी तिथि भवन निर्माण को तय करने का अधिकार है. विभाग सारी तैयारी करके हमें अवगत करायेगा जिसके बाद कानून व्यवस्था के मद्देनजर सारी व्यवस्स्था में सुनिश्चित कराऊंगा. इस संदर्भ में अभी पात्र नहीं मिला है संभवतः अभी पत्र वह डाक में हो.

राजद नेताओं का साफ़ कहना है कि जिस तरह पहले सुरक्षा हटाई और बाद में वापस की उसी तरह से आवास के मामले में किया जा रहा है. राजद विधायक सह प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने काहा कि पांच देशरत्न मार्ग बिहार सरकार के कैबिनेट मंत्री को आवंटित होता है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को भी कैबिनेट मंत्री का दर्जा है. यादव ने कहा कि यह मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में है या नहीं यह देखना होगा. मुख्यमंत्री को यह देखना चाहिए कि अधिकारी क्या आदेश जारी कर रहे हैं. वह इस पर संज्ञान लें. हमारे नेता का सुरक्षा का मामला है.



Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.