Input your search keywords and press Enter.

लालकिले को गोद लेने पर बिफरे तेजस्वी, कह दी ये बड़ी बात…

न्यूज़ डेस्क: भारत के इतिहास में पहली बार किसी कॉरपोरेट घराने द्वारा ऐतिहासिक विरासत लालकिले को गोद लिये जाने पर बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव केन्द्र सरकार पर जमकर बिफरे हैं. तेजस्वी यादव ने केन्द्र सरकार पर तंज कसते हुए ट्वीट किया है और कहा है कि मोदी सरकार द्वारा इसे लालकिले का निजीकरण करना कहोगे, गिरवी रखना कहोगे या बेचना. अब प्रधानमंत्री का स्वतंत्रता दिवस का भाषण भी निजी कंपनी के स्वामित्व या नियंत्रण वाले मंच से होगा. ठोको ताली. जयकारा भारत माता का.

तेजस्वी के इस ट्वीट पर कुछ लोगों ने उनकी राय से सहमति जतायी है.गौरतलब है कि डालमिया भारत ग्रुप ने लालकिला को यूरोपीय किलाओं की तर्ज पर विकसित करने की बात कही है. इसके लिए ग्रुप ने पांच साल के लिए लालकिला को गोद लिया है.डालमिया भारत ग्रुप ने 9 अप्रैल को ही पर्यटन मंत्रालय, संस्‍कृति मंत्रालय और भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण के साथ समझौता किया था. डालमिया ग्रुप लालकिला को पर्यटकों के बीच लोकप्रिय बनाने के लिए उसे नए सिरे से विकसित करने के तौर-तरीकों पर विचार कर रहा है.

Loading...


Widget not in any sidebars

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

क्या है पूरा मामला

डालमिया भारत ग्रुप ने नरेन्द्र मोदी सरकार की “अडॉप्ट ए हेरिटेज” नीति के तहत दिल्ली के लालकिले को पांच साल के लिए गोद लिया है. डालमिया ग्रुप के मुताबिक 30 दिनों के अंदर लालकिले के सौंदर्यीकरण का काम शुरू हो जाएगा. ग्रुप की माने तो यूरोप की किलाएं लाल किला के मुक़ाबले काफी छोटी हैं लेकिन उन्हें बहुत ही बेहतरीन तरीके से विकसित किया गया है. ग्रुप का मानना है कि उसी तर्ज पर लालकिला को भी विकसित किया जाएगा और ये दुनिया के सबसे बेहतरीन स्मारकों में से एक होगा.

विदित हो कि लालकिला को गोद लेने की होड़ में इंडिगो एयरलाइंस और जीएमआर ग्रुप जैसी दिग्‍गज कंपनियां भी शामिल थीं लेकिन डालमिया भारत ग्रुप ने इन्‍हें पछाड़ते हुए पांच साल के कांट्रैक्‍ट पर ऐतिहासिक इमारत को गोद लिया है.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.