Input your search keywords and press Enter.

बिहार बंद के समर्थन में वामदलों के नेता सड़क पर उतरे, कांग्रेस-राजद ने दिया साथ

डीबीएन न्यूज/मोतिहारी {मधुरेश}

मुजफ्फरपुर बालिका गृह बलात्कार कांड के खिलाफ अपने प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर बिहार बंद को सफल बनाने के लिए लाल झंडे से लैस वामदलों के कार्यकर्ता आज पूर्वी चंपारण जिले में सड़क पर उतरे.बिहार बंद के दौरान वामदलों के कार्यकर्ताओं ने केन्द्र सरकार व राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की. पूर्वी चंपारण जिले में बंद का मिलाजुला असर रहा. जिला मुख्यालय मोतिहारी में अलग-अलग झुंडों में निकले नेताओं-कार्यकर्ताओं ने व्यवसायियों का दुकान बंद करवाया और कुछ देर के लिए जिला मुख्यालय में सड़क जाम कर दिया. बिहार बंद को समर्थन देने के लिए कांग्रेस एवं राजद के भी कार्यकर्ता सड़क पर उतरे. उधर केसरिया के पिताम्बर चौक पर बंद समर्थकों ने जिला सीपीआई के नेता अतीक अहमद खां के नेतृत्व में वैशाली-अरेराज मुख्य मार्ग को घंटों जामकर विरोध प्रर्दशन किया.

Loading...

सड़क जाम से एस एच 74 पर वाहनों की लंबी कतारे लग गयी. इससे पहले बंद समर्थकों ने घूम-घूम कर सभी सरकारी और गैरसरकारी कार्यालयों को बंद कराया.इस अवसर पर बंद समर्थकों को संबोधित करते हुए सीपीआई नेता मो. अतिक अहमद खान ने कहा कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड ने देश-विदेश के पैमाने पर बिहार को शर्मशार किया है. उन्होंने सवालिया लहजे में कहां कि दरिंदे भेड़ियों की तरह बच्चियों की आबरु लूटते रहे और सुशासन बाबू की सरकार उन दरिंदे बालिका गृह संचालकों को फंड मुहैया कराती रही. सीपीआई नेता ने कहा कि मुजफ्फरपुर कांड से शर्म भी शर्मा गया है परंतु सूबे के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री पर इसका कोई असर नहीं है.इस मामले की सीबीआई जांच शुरु होने पर उन्होंने कहा कि इससे न्याय की उम्मीद जगी है, लेकिन जांच की निगरानी पटना हाईकोर्ट करे.


Widget not in any sidebars

इस कांड के बाद सूबे की समाज कल्याण मंत्री मंजु वर्मा के पद पर बने रहने को उन्होंने हास्यास्पद बताया. सीएम नीतीश कुमार से सीपीआई नेता ने विभागीय मंत्री को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग की. सीपीआई नेता मो.खान ने जोर देकर कहा कि इस कांड में कई सफेदपोश लोग शामिल हैं.उन सबके खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो अन्यथा हमारी पार्टी चरणबद्ध आंदोलन पर उतारु होगी. बिहार बंद के दौरान सड़क पर उतरने वाले नेताओं में केसरिया क्षेत्र के कम्युनिस्ट नेता राजेंद्र सिंह, पूर्व मुखिया हरिशंकर पासवान, कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष इरफानुल हक खां, प्रफुल्ल कुंवर, राजद प्रखंड अध्यक्ष हातिम खां, चौरसिया ध्रुव प्रसाद, नारायण किशोर राय, गया प्रसाद, नेजाम खां, मो0 याकूब, अब्दुल हमीद, अब्दुल मजीद एवं तेज कुमार सिंह सहित अन्य नेता-कार्यकर्ता शामिल थे.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.