Input your search keywords and press Enter.

सुशांत सिंह राजपूत के मौत को बिहार में राजनैतिक पार्टी अब चुनाव में भुनाना चाह रही है!

बिहार के फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत को ‘न्याय’ की लड़ाई अब ‘पॉलिटिकल प्रापगैंडा’ बनता जा रहा है! इस मामले को लेकर बिहार में सरकारी दल जेडीयू और बीजेपी ‘प्रो एक्टिव’ भूमिका में हैं!

पॉलिटिकल सर्किल में चर्चा है कि सरकार फिलहाल राजपूतों का दिल जीतना चाहती रही है! बिहार विधानसभा चुनाव सामने है,ऐसे में वह कोई रिस्क नहीं लेना चाह रही है। इसके लिए वह जो कुछ कर सकती है, कर रही है। सरकार की कोशिशों पर जरा गौर कीजिए.

सुशांत की सुसाइड के करीब डेढ महीने बाद उनके पिता केके सिंह के बयान पर पटना के राजीव नगर थाने में सुशांत की गर्ल फ्रेंड रिया चक्रवर्ती के खिलाफ एफआइआर दर्ज किया गया है। मामला दर्ज होते ही बिहार पुलिस की एक टीम मुंबई पहुंच गयी है। टीम वहां जांच में जुटी है। इधर बिहार सरकार ने सुप्रीम कोर्ट जाने का ऐलान कर दिया है।

महंगे वकील मुकुल रोहतगी सरकार की तरह से कोर्ट में पेश होंगे। बिहार के औरंगाबाद से बीजेपी के सांसद सुशील सिंह ने सुशांत सुसाइड केस की जांच सीबीआइ से कराने की मांग को लेकर शुक्रवार, 31 जुलाई को चिट्ठी लिख दी। उधर महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने सीबीआइ और इडी दोनों से जांच कराने की मांग रख दी।

मीडिया में फडणवीस की चर्चा हो ही रही थी कि बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी का ट्वीट आ गया! मोदी ने मुंबई पुलिस पर बिहार पुलिस को सहयोग नहीं करने , जांच में रोड़े अटकाने के आरोप लगाये और सीबीआइ से जांच कराने की मांग भी की। जेडीयू प्रवक्ता राजीवरंजन ने मीडिया को बताया कि मुख्यमंत्री सुशांत के परिवार की भावनाओं के साथ हैं।