Input your search keywords and press Enter.

सबकुछ छीन कर रामविलास की पुण्य तिथि पर चिराग को आशीर्वाद दे रहे चाचा पारस

लोक जनशक्ति पार्टी में टूट के बाद से केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस .और उनके भतीजे चिराग पासवान के रिश्‍ते तल्‍ख हैं. वे एक-दूसरे के निशाने पर रहे हैं.लेकिन इस बीच लोजपा के दिवंगत सांसद रामचंद्र पासवान की पुण्‍यतिथि के मौके पर पारस ने चिराग को अपना बेटा बताते हुए, उज्‍जवल भविष्‍य की शुभकामनाएं दीं.श्रद्धांजलि कार्यक्रम में पारस इमोशनल नजर आए.अपने छोटे भाई को श्रद्धांजलि देने के बाद बातें करते हुए उनकी आंखें नम हो गईं.

चिराग और प्रिंसराज हमसे भी आगे जाएं

पारस ने कहा कि हम तीनों भाई छोटे से गांव शहरबन्‍नी से निकलकर लोकतंत्र के सर्वोच्‍च मंदिर तक पहुंचे.यह हमारे माता-पिता का पुण्‍य प्रताप था कि हम सब इतना आगे बढ़े.देश में शायद ही कोई परिवार होगा, जहां के पांच लोग सांसद चुने गए. हमारे तीन भाई में चार बेटे हैं. चिराग और प्रिंसराज भी उनके बेटे हैं. दोनों का पिता होने के नाते वे उन्‍हें शुभकामना देते हैं कि वे और आगे बढ़ें. उनका भविष्‍य उज्‍जवल हो.उन्‍होंने इस दौरान रामचंद्र पासवान को याद किया. कहा कि उन्‍होंने काफी संघर्ष किया. इस दौरान रामचंद्र पासवान के पुत्र प्रिंसराज समेत पार्टी के अन्‍य सांसद भी मौजूद थे.

श्रद्धांजलि दिल्‍ली, नजरें टिकी थीं बिहार की

इधर चिराग पासवान ने भी दिल्‍ली में ही अपने दिवंगत चाचा को श्रद्धांजलि दी.कहा कि उनकी कमी की भरपाई नहीं की जा सकती.केंद्रीय मंत्री पारस और सांसद चिराग पासवान, दोनों ने दिल्‍ली में ही रामचंद्र पासवान को श्रद्धांजलि दी.लेकिन इसपर बिहार की नजरें टिकी थीं.दोनों गुट के समर्थकों ने यहां भी दिवंगत सांसद के चित्र पर पुष्‍पांजलि अर्पित की.गौरतलब है कि लोजपा में केंद्रीय मंत्री पारस के नेतृत्‍व में पांच सांसद एक तरफ हैं तो दूसरी ओर चिराग पासवान हैं. रामचंद्र पासवान के पुत्र प्रिंसराज भी अपने चाचा पारस के ही साथ हैं.