Input your search keywords and press Enter.

लोकसभा चुनाव से पहले मोदी नीतीश के लिए खतरे की घंटी, बीजेपी जदयू के बड़े बागी नेता तेजस्वी के साथ….

modi-nitish tejashwi

न्यूज़ डेस्क: केंद्र की मोदी सरकार अपनों के ही निशाने पर है. भाजपा के बागी नेता ही मोदी सरकार के मिशन-2019 में अडंगा लगाने में जुटे हुए हैं. भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिश जोरशोर से शुरू हो गई है. भारतीय जनता पार्टी के दो बड़े राष्ट्रीय बागी नेता खुलकर अब विपक्ष के साथ मोर्चा खोलने के लिए मैदान में आ गए हैं.

अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वित्त मंत्री का जिम्मा संभाल चुके असंतुष्ट नेता यशवंत सिन्हा आज गैर-भाजपा दलों का अधिवेशन करने जा रहे हैं. इस अधिवेशन में पटना साहिब सांसद अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा की अहम भूमिका निभाने जा रहे हैं. दोनों ने अलग-अलग जगहों पर एक साथ रहते हुए मोदी सरकार के नीतियों के खिलाफ हमला बोला है. ख़ास बात यह है कि कार्यक्रम में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, शरद यादव एवं जदयू के असंतुष्ट नेता उदय नारायण चौधरी भी शामिल वाले हैं.

Loading...

yashwant modi

file photo


इस कार्यक्रम में देशभर के प्रमुख दलों के नेता एवं प्रतिनिधि शामिल होंगे जिसमें मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस, राजद, आम आदमी पार्टी एवं सपा समेत भाजपा-जदयू के असंतुष्ट नेताओं को भी बुलाया गया है. इसमें भाग लेने के लिए ममता बनर्जी को भी न्योता दिया गया है लेकिन ममता भाजपा के साथ कांग्रेस से भी दूरी बनाए रखकर तीसरे मोर्चे की संभावनाओं को टटोल रही हैं इसलिए उनके तरफ से किसी के आने की सम्भावना नहीं है. गौरतलब है कि अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वित्त मंत्री का ओहदा संभालने वाले यशवंत फिलहाल मोदी सरकार के सबसे मुखर आलोचक हैं. उन्होंने अरुण जेटली के क्रियाकलाप पर कई बार सवाल उठा चुके हैं. मोदी सरकार के आर्थिक फैसले के खिलाफ में खुलकर विरोध बोल चुके हैं. उन्होने राष्ट्रीय हित के नाम पर भाजपा सांसदों से भी मुखर होने की अपील की है.



Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.