Input your search keywords and press Enter.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर रूस का बड़ा दावा : वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल में हुई सफल

रूस ने दावा किया है कि उन्होंने कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार कर ली है। रूस में स्थित सेचेनोव विश्वविद्यालय का मानना है कि उन्होंने दुनिया में कोरोना की पहली वैक्सीन खोज ली है और इसका ह्यूमन ट्रायल भी सफल रहा।

इंस्टीट्यूट फॉर ट्रांसलेशनल मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी के निदेशक वदिम तरासोव को बताया‌- जिन वॉलेंटियर पर वैक्सीन का परीक्षण किया गया था, उनके पहले बैच को बुधवार को और दूसरे बैच को 20 जुलाई को अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

तरासोव ने बताया कि , विश्वविद्यालय ने 18 जून को रूस के गेमली इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा निर्मित टीके का परीक्षण शुरू किया था। विश्वविद्यालय ने पहली वैक्सीन के वॉलेंटियर्स पर सफलतापूर्वक परीक्षण को पूरा कर लिया है।

वहीं दूसरी तरफ यूनिवर्सिटी में इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल पैरासिटोलॉजी, ट्रॉपिकल एंड वेक्टर-बॉर्न डिजीज के निदेशक अलेक्जेंडर लुकाशेव ने बताया कि इस अध्ययन का मकसद ह्यूमन हेल्थ की सुरक्षा के लिए कोविड-19 के वैक्सीन को सफलतापूर्वक तैयार करना था। यह वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। उन्होंने बताया कि इस वैक्सीन को जल्द ही बाजार में उतारा जाएगा।

लुकाशेव ने इस पर आगे बताते हुए की आगे की प्लानिंग पर भी उन्होंने काम कर लिया है और जल्दी इस बारे में लोगों को सूचित कर दिया जाएगा। उन्होंने कोविड-19 वैक्सीन तैयार करने में सेचेनोव विश्वविद्यालय की महत्वपूर्ण भूमिका बताई।

वही बाकी कई बड़े देश वैक्सीन की खोज में जुट चुके हैं। कुछ देशों की वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल के चरण तक भी पहुंच चुकी है। अब देखना यह है कि रूस के द्वारा बनाई गई वैक्सीन कोविड-19 से लड़ने में समर्थ हो पाती है या नहीं।