Breaking News
December 16, 2018 - मुख्यमंत्री ने जीविका के सहयोग से महिला कृषकों द्वारा किये जा रहे काॅन्ट्रैक्ट फार्मिंग का निरीक्षण किया, पंचायत सरकार भवन में लोक सेवा अधिकार केन्द्र का किया उद्घाटन।
December 16, 2018 - जदयू ने सरदार बल्लभ भाई पटेल की मनाई पुण्यतिथि,लोगों ने उनके मार्गदर्शन पर चलने का लिया संकल्प
December 15, 2018 - युवा अपनी शक्ति का सदुपयोग कर परिवार, समाज, राज्य देश को आगे बढ़ायें:- मुख्यमंत्री
December 14, 2018 - मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई बिहार विकास मिशन के शासी निकाय की पांचवी बैठक संपन्न।
December 13, 2018 - मंजू वर्मा का छलका दर्द बोलीं- मुझसे क्या खता हुई
December 13, 2018 - सीट शेयरिंग पर राहुल गांधी का इंतजार कर रहे हैं बिहार के नेता
December 13, 2018 - राजनीति में आने पर खेसारी लाल ने दिया यह बड़ा बयान
December 13, 2018 - मुजफ्फरपुर बालिका गृह भवन को आज किया जा रहा ध्वस्त
December 13, 2018 - ‘खुद कंफ्यूज हैं उपेंद्र कुशवाहा’
December 13, 2018 - एक सीट पर नहीं मानेंगे मांझी, सीट शेयरिंग पर दिया बड़ा बयान

बीजेपी के खिलाफ लड़ाई लड़ेगी जदयू

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

जदयू अब न सिर्फ प्रदेश बल्कि अन्य राज्यों में भी अपना किस्मत आजमाने उतर रही है. अब जदयू बड़ी पार्टी बनने की जुगत में है, ऐसे में राजनीतिक सूत्रों का कहना है कि जदयू महज कुछ दिनों में बीजेपी को भी टक्कर देने लगेगी. मालूम हो कि सीएम नीतिश कुमार की जनता दल यूनाइटेड (जदयू) छत्तीसगढ़ की सभी 90 विधानसभा सीटों पर ताल ठोंकने की तैयारी कर रही है. छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में जदयू बिहार की तर्ज पर पूर्ण शराबबंदी का मुद्दा उठाने जा रही है. इसकी ताजा जानकारी आज बिहार जदयू के एक नेता ने दी. जानकारी देते हुए जदयू नेता ने बताया कि छत्तीसगढ़ के लोग खुद चाह रहे है कि जदयू पार्टी कि सरकार सत्ता में आये.

जदयू नेता ने बताया कि हमारी पार्टी छत्तीसगढ़ में सिर्फ चुनाव लड़ने ही नहीं बल्कि वहां दोहन और शोषण कर रहे लोगों को हटायेंगे. फिर उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ के लोगों से जदयू पार्टी को काफी सहयोग मिला है.

मालूम हो कि इससे पहले जदयू के राष्ट्रीय सचिव रविंद्र कुमार सिंह ने जदयू लगातार शराबबंदी की मांग उठाती रही है. ऐसे में इसे पूरजोर तरीके से बिहार की तरह छतीसगढ़ में भी शराबबंदी को लागू किया जायेगा. फिर उन्होंने कहा, छत्तीसगढ़ में ग्रामीण जनता का दोहन और शोषण दोनों बदस्तूर जारी है. पहले जब छत्तीसगढ़ नहीं बना था तो मध्यप्रदेश शोषण करता था, अब छत्तीसगढ़ में भी वही हो रहा है.

विदित हो कि छत्तीसगढ़ खनिजों के मामले में समृद्ध है लेकिन आम लोगों को इसका लाभ नहीं मिल रहा है. सरकार फैक्ट्रियां लगा रही है, उद्योगपतियों को मुनाफा दिला रही है. यहां युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है. आउटसोर्सिंग से नौकरियां बांटी जा रही हैं. धान के इस कटोरे में किसान प्रकृति पर निर्भर हैं.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

About author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *