Breaking News
August 26, 2019 - पी.चिदंबरम को मिल झटका, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज किया अंतरिम जमानत याचिका
August 26, 2019 - तेजस्वी यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने को लेकर राजद में विवाद
August 25, 2019 - प्रियंका गांधी ने कश्मीर को लेकर केन्द्र पर बोला हमला, कहा ‘लोगों को चुप कराना राष्ट्रविरोधी’
August 25, 2019 - तेजस्वी यादव बोले सिर्फ लालू परिवार ही भ्रष्टाचारी नहीं, आरसीपी सिंह पर जांच की रखी मांग
August 25, 2019 - BPSSC में 2446 पदों के लिये एजुकेशन क्वालीफिकेशन में बदलाव
August 25, 2019 - BPSSC में 2446 पदों के लिये एजुकेशन क्वालीफिकेशन में बदलाव
August 25, 2019 - अनंत सिंह ने जेल का खाना खाने से किया इंकार, मांगी विशेष सुविधा
August 25, 2019 - कोर्ट में पेशी के बाद पटना के बेऊर जेल भेजे गए अनंत सिंह
August 25, 2019 - तेजस्वी के कमबैक को झटका, शिवानंद तिवारी-भाई वीरेंद्र ने बनाई दूरी
August 25, 2019 - अरुण जेटली को लेकर लालू यादव ने बताई दिल की बात

बालाकोट एयर स्ट्राइक करने वाले पांच जांबाज पायलटों को वीरता पुरस्कार

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

भारत सरकार ने एलान किया है कि पाकिस्तान की सीमा में घुस कर बालाकोट एयर स्ट्राइक करने वाले पायलटों को वीरता पदक से सम्मानित किया जाएगा. वीरता पुरस्कारों में इसबार बालाकोट एयर स्ट्राइक के वीरों को खूब सम्मान मिला है. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर विंग कमांडर अमित रंजन, स्क्वॉर्डन लीडर राहुल बसोया, पंकज भुजडे, बीकेएन रेड्डी, शशांक सिंह को वीरता पदक दिया जाएगा.

बालाकोट पर हमला करने वाले सभी पायलट्स को मिराज 2000 लड़ाकू विमान के पायलट हैं. इन सभी पायलटों ने बड़ी ही सटीकता के साथ पाकिस्तान के बालाकोट में जैश के ठिकानों पर हमला किया और उसे नेस्तनाबूद कर दिया. ये सभी बहादुर पायलट दुश्मन को नुकसान पहुंचाकर सुरक्षित भारतीय सीमा में लौट आए थे. वहीं एयर स्ट्राइक के बाद पाक अधिकृत कश्मीर (POK) में एफ-16 विमान को मार गिराने वाले विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को स्वतंत्रता दिवस के दिन (15 अगस्त) वीर चक्र से नवाजा जाएगा. उल्लेखनीय है कि वीर चक्र युद्धकाल में बहादुरी के लिए दिया जाने वाला तीसरा सबसे बड़ा सैन्य सम्मान है. पहले नंबर पर परमवीर चक्र और दूसरे पर महावीर चक्र हैं.

आपको बता दें कि स्क्वॉड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल को युद्ध सेवा मेडल दिया जाएगा. मिंटी को यह पुरस्कार बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच हवाई संघर्ष के दौरान दिए गए उनके योगदान के लिए दिया गया है. युद्ध में विजय सीमा पर डटकर लड़नेवाले सिपाहियों के साथ नेपथ्य में भूमिका निभानेवाले कुछ गुमनाम चेहरों की बदौलत होती है. स्क्वॉड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल ने भी नेपथ्य में रहकर विकट परिस्थितियों में गजब सूझबूझ दिखाई थी और विंग कमांडर अभिनंदन का बखूबी साथ दिया. बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने जब भारत पर बदले की नीयत से हमले की कोशिश की. उसे एयरफोर्स ने बखूबी नाकाम किया था. भारतीय पायलट्स पड़ोसी देश के जेट्स को बॉर्डर पार तक खदेड़ कर आए. इस कार्रवाई को सफल बनाने में महिला स्क्वॉड्रन लीडर मिंटी का भी उतना ही योगदान था.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

About author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *