Input your search keywords and press Enter.

अगर नहीं बनवाया शौचालय तो बंद हो सकता है अन्न-पानी

न्यूज़ डेस्क: खुले में शौच को लेकर केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार तक सभी इसके विरुद्ध काम कर रहे है इस बीच पुडुचेरी की लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी ने विवादित बयान दे दिया है. किरण बेदी ने कहा है कि जो गांव खुले में शौच से मुक्त नहीं हो पाए हैं, वहां के लोगों को मुफ्त चावल नहीं दिया जाएगा.


Widget not in any sidebars

गौरतलब है कि राज्य में मुफ्त चावल योजना का लाभ करीब आधी जनसंख्या को मिलता है. किरण बेदी ने शनिवार को घोषणा की, कि जिन गावों के लोग खुले में शौच करते हैं और खुले में कूड़ा-करकट फेंकते हैं, उनको मुफ्त चावल देना बंद कर दिया जाएगा. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘मुफ्त चावल योजना को संबंधित क्षेत्र के विधायकों और ग्रामसभा आयुक्तों द्वारा खुले में शौच तथा कूड़े-प्लास्टिक फेंकने से मुक्त होने के प्रमाणपत्र से जोड़ दिया है. यह आज के दिन का सबक है.’

Loading...

एक मीडिया हाउस से बातचीत में किरण बेदी ने कहा है की यह आदेश जून के महीने से लागु किया जायेगा. ग्रामीणों के पास 4 हफ्ते का समय है शौचालय बनवाने के लिए और अपने आस-पास सफाई रखने के लिए. उन्होंने कहा, ‘तब तक मुफ्त आपूर्ति होने वाले चावल को सुरक्षित भंडारगृहों में रखा जाएगा. साफ होने के प्रमाण हासिल करने वाले गांवों को ही यह वितरित किया जाएगा.

लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी ने अपने बयान में कहा, ‘ग्रामीण स्वच्छता की धीमी गति देखकर मैं बहुत दुखी हूं. पिछले दो साल से मैंने किसी ऐसे जनप्रतिनिधि या संबंधित सरकारी अधिकारी में यह दृढ़ता नहीं देखी है कि एक समय-सीमा के भीतर ग्रामीण पुडुचेरी को साफ-सुथरा बनाना है.’


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.