Input your search keywords and press Enter.

रेलवे फिर बढ़ा रहा है किराए, जानिए क्यूं

रेलवे फिर बढ़ा रहा है किराए, जानिए क्यूं
रेलवे फिर बढ़ा रहा है किराए, जानिए क्यूं

पहली जनवरी को भारतीय रेलवे ने किराया बढ़ाया था, लेकिन इस बढ़ोतरी के बाद भी रेलवे ने अब दोबारा किराए में फर बदल किया है। अब रेलवे किराया बढ़ोतरी के प्रत्यक्ष और परोक्ष तरीके खोजने में जुटा है। अब रेल मंत्रालय की ओर से इन दिनो एक अभियान छेड़ा गया है। आइए अभियान द्वारा यात्रियों को यह समझाने की कोशिश की जा रही है कि भारत में रेल किराये अभी भी पड़ोसी देशों से काफी कम हैं। इसलिए थोड़ी और बढ़ोतरी हो जाए तो उसके लिए तैयार रहें।

बजट से पहले मंत्रालय एक बार और किराया बढ़ाने के पथ पे चल चुका है। ये वृद्धि प्रत्यक्ष या परोक्ष किसी भी रूप में हो सकती है। सबसे ज्यादा संभावना उपनगरीय ट्रेनो के किराये बढ़ाए जाने की बताई जाती है। लेकिन जिस तरह जनता ने उस बढ़ोतरी का आराम से स्वीकार कर लिया और किसी प्रकार का विरोध नहीं है रहा है, उसे देखते हुए अब इस सेगमेंट को भी छेड़ने की गुंजाइश बनाई जा रही है। परंतु चूंकि उपनगरीय किरायों का मुद्दा सामान्य मेल एक्सप्रेस ट्रेनों के किरायों की बनिस्बत काफी संवेदनशील माना जाता है। इसलिए दूसरी संभावना परोक्ष बढ़ोतरी की हो सकती है। जिसमें आरक्षण शुल्क, सुपर फास्ट शुल्क में बढ़ोतरी अथवा स्टेशन डेवलपमेंट सरचार्ज के रूप में एक नया शुल्क लगाए जाने की आशंका भी जताई जा रही है।

दरअसल यात्रियों को बेहतर सुविधाएं देने के लिए रेलवे मंत्रालय की ओर से कुछ अधिकारियों से लेख लिखवाए जा रहे हैं और मीडिया को उनकी प्रतियां बांटी जा रही हैं। साथ ही ग्राफिक्स के माध्यम से पाकिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका में रेल किरायों की अपेक्षा भारत में किरायों की स्थिति दर्शाने का प्रयास किया जा रहा है।

एक ग्राफिक्स में यह दर्शाया गया है कि बांग्लादेश में उपनगरीय ट्रेनों का किराया प्रति किलोमीटर 33 पैसे, पाकिस्तान में 48 पैसे तथा श्रीलंका में 48.1 पैसे है, वहीं भारत में अभी भी लोकल ट्रेनों में लोग मात्र 22.8 पैसे प्रति किलोमीटर के किराये पर सफर कर रहे हैं। लंबी दूरी की गैर-वातानुकूलित ट्रेनों का किराया पाकिस्तान में 48 पैसे, श्रीलंका में 67.9 पैसे तथा बांग्लादेश में 147 पैसे प्रति किलोमीटर है, वहीं भारत में अभी भी यात्रियों को केवल 39.5 पैसे प्रति किलोमीटर देने पड़ते हैं। वातानुकूलित श्रेणियों के किरायों की भी तुलना दर्शाई गई है। जिसके मुताबिक एसी क्लास के लिए भारत में लोगों को केवल 175 पैसे प्रति किलोमीटर के हिसाब से किराया देना पड़ रहा है। जबकि पाकिस्तान के लोग एसी दर्जो के लिए 176.5 पैसे तथा बांग्लादेश के लोग 227 पैसे प्रति किलोमीटर के हिसाब से किराया चुकाते हैं। इस ग्राफिक्स द्वारा यह माना जा सकता है कि अब भी हम किराए में वृद्धि होता देख सकते हैं।