Input your search keywords and press Enter.

हॉर्स ट्रेडिंग की पुरानी रेट तो छोड़िए अब तो नए रेट आ गए – मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

राजस्थान का सियासी दल अभी भी गरमाया हुआ है। किसी सियासी संघर्ष के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हॉर्स ट्रेडिंग की पुरानी रेट तो छोड़िए अब तो नए रेट आ गए। पता नहीं किस-किस ने पहली किस्त ले ली है। उन्होंने कहा कि “लोग गए हैं, उनमें से पता नहीं किन-किन लोगों ने पहली किस्त ली है। कइयों ने पहली किस्त अभी नहीं ली है।”

गुरुवार को विधायक दल की बैठक हुई जिसके बाद अशोक गहलोत ने मीडिया से बात करते हुए बयान दिया कि “हॉर्स ट्रेडिंग का रेट बढ़ गया, विधायकों के पास फोन आने लगे हैं। पहले 10,15 और 25 करोड़ का रेट था, अब विधानसभा सत्र की तारीख तय होते ही अनिमिटेड हो गया। इस मामले में भाजपा एक्सपोज हो गई। भाजपा के नेता छिपकर दिल्ली जाते हैं। अगर उनके दिल्ली जाने के पीछ नीयत सही है तो छिप-छिप कर दिल्ली क्यों जा रहे हैं।”

उन्होंने यह भी कहा कि विधानसभा सत्र में फ्लोर टेस्ट होगा और कोरोनावायरस के बारे में भी चर्चा की जाएगी। विधानसभा के कार्य सलाहकार द्वारा समिति का कामकाज तय होगा। सियासी संघर्ष के बीच तनाव के बारे में उन्होंने कहा कि मैं हमेशा ऐसे ही खुश रहता हूं । उन्होंने जोड़ा कि राजस्थान देश की राजनीति का टर्निंग प्वाइंट बन सकता है, अगर मीडिया साथ दे तो।

उन्होंने आगे कहा कि विधानसभा सत्र में वह विधायक भी आए जो नाराज हैं, क्योंकि वह कांग्रेस के चिन्ह पर चुनाव जीते हैं। गहलोत ने कहा कि प्रदेश की राजनीति को लेकर बसपा सुप्रीमो जो बयान दे रही हैं, वह भाजपा के इशारे पर कर रही हैं।